product-img

। एनआइए, एसटीएफ और अन्य सुरक्षा एजेंसियों द्वारा बुधवार को आतंकी गतिविधियों को लेकर पश्चिमी उत्तर प्रदेश में की गई यह पहली कार्रवाई नहीं है। यहां पिछले 15 सालों में 19 आतंकी और 50 जासूस पकड़े जा चुके हैं। पैसों के लालच में ये लोग देश से गद्दारी करते हुए पाए गए हैं। राजधानी दिल्ली से नजदीकी के कारण भी ये आतंकी यहां शरण लेते हैं। ये पहचान छिपाकर यहां आसानी से शरण पाने में सफल हो जाते हैं। पिछले 15 साल में वेस्ट यूपी में 19 आतंकी पकड़े जा चुके हैं और 50 से अधिक पाकिस्तानी जासूस भी सुरक्षा एजेंसियों के हत्थे चढ़ चुके हैं।

इन संगठनों के आतंकी व जासूस पकड़े गए 
खुफिया एजेंसियों के अनुसार, आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद, लश्कर-ए-तैयबा, हिजबुल मुजाहिद्दीन, इंडियन मुजाहिद्दीन ने पश्चिम उत्तर प्रदेश में अपनी गहरी पैठ जमाई हुई है। इसलिए अभी तक पकड़े गए आतंकी व जासूस उक्त संगठनों से जुड़े हुए मिले हैं। वहीं आइएसआइ के एजेंट भी पकड़े गए हैं।

 


Related News