product-img

नई दिल्ली: लंदन में ईवीएम हैकिंग पर प्रेस कॉन्फ्रेंस में ये बताया गया कि 2014 के आम चुनाव में धांधली हुई थी। हैकिंग का दावा करने वाले शख्स ने सनसनीखेज आरोप भी लगाए। एक तरफ लंदन में प्रेस कॉन्फ्रेंस हुई और दूसरी तरफ उसकी गूंज भारत में सुनाई देने लगी। एक सुर से विपक्षी दलों ने कहा कि यह गंभीर मसला है और सरकार को सफाई देनी चाहिए। सरकार की तरफ से कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद उतरे और कहा कि 2004 से ही ईवीएम के जरिए चुनाव हो रहे हैं तो क्या जिन दलों को सत्ता हासिल हुई वो सभी धांधली के जरिए चुनाव जीते। इसके साथ ही ये भी कहा कि प्रेस कॉन्फ्रेंस कांग्रेस प्रायोजित थी जिसे नेशनल हेरल्ड में लेख लिखने वाले आशीष रे ने आयोजित किया था और उसमें कांग्रेस के नेता कपिल सिब्बल भी मौजूद थे।

इस मुद्दे पर बीएसपी मुखिया मायावती ने कहा कि लोकतंत्र को ध्यान में रखकर ईवीएम के मुद्दे को तत्काल सुलझाना जरूरी है। मतपत्रों से संबंधित शिकायतों को दूर किया जा सकता है। लेकिन ईवीएम की खामियों को दूर नहीं किया जा सकता है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि वर्तमान हालात को ध्यान में रखते हुए 2019 का चुनाव मतपत्रों से कराया जाना चाहिए। 


Related News