product-img

पिछले पांच सालों में केंद्र सरकार की ओर से किए जा रहे प्रयासों के चलते विलुप्त होने की कगार पर पहुंच चुके बाघों के शिकार में 50 फीसदी से ज्यादा की कमी आई है। लेकिन पिछले दस साल में बाघों के लिए सबसे ज्यादा असुरक्षित मध्य प्रदेश रहा है। यहां वर्ष 2008 से 2018 के बीच 71 बाघों का शिकार किया गया। यह जानकारी नोएडा के रहने वाले समाजसेवी रंजन तोमर को आरटीआई के तहत वन्यजीव अपराध नियंत्रण ब्यूरो से मिली है।

वन्यजीव अपराध नियंत्रण ब्यूरो से मिली जानकारी के अनुसार पिछले सात साल में मध्य प्रदेश सरकार बाघ संरक्षण के नाम पर 1050 करोड़ रुपए खर्च कर चुकी है। इसके बावजूद दस साल में देश में सबसे अधिक बाघों का शिकार मप्र में हुआ है। मप्र में वर्ष 2008 से 2018 के बीच 71 बाघ मारे गए। पांच साल में बंगाल में मारे गए 31 बाघ, देश में सर्वाधिक ब्यूरो के आंकड़ों के मुताबिक पिछले पांच साल में देश में 145 बाघों का शिकार हुआ है, जबकि इससे पूर्व 2008 से 2013 में 285 बाघों का शिकार हुआ था।


Related News