product-img

नई दिल्ली: करीब 77 दिनों के बाद सीबीआई के निदेशक आलोक वर्मा जब दफ्तर पहुंचे तो वो एक्शन में दिखे। सीबीआई के अंतरिम निदेशक एम नागेश्वर राव द्वारा किए गए ट्रांसफर ऑर्डर्स को उन्होंने पलट दिया। लेकिन उनके पद पर बने रहने के मुद्दे पर पैनल कमेटी की मीटिंग बुधवार को हुई थी हालांकि उस वक्त कोई फैसला नहीं हुआ। गुरुवार को एक बार फिर 7 लोक कल्याण मार्ग में पैनल कमेटी की मीटिंग जारी है। बता दें कि पैनल में पीएम के अलावा लोकसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे और जस्टिस ए के सीकरी शामिल हैं।

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने गुरुवार को कहा कि सरकार सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा को सुने बगैर केंद्रीय सर्तकता आयोग (सीवीसी) की रिपोर्ट के आधार पर उन्हें हटा नहीं सकती। सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि अगर सरकार आलोक वर्मा को हटाती है तो समस्या सुलझने के बजाए और बदतर हो जाएगी।


Related News