कट΄गी के बाढ़ पीडि़तो΄ को नही΄ मिला मुआवजा

0

बालाघाट(पद्मेश न्यूज)। जनपद पंचायत कटंगी के अंतर्गत आने वाले ग्राम देवथाना के कुछ ग्रामीणों ने मंगलवार को कलेक्टर कार्यालय में ज्ञापन सौंपा कांग्रेस झुग्गी झोपड़ी प्रकोष्ठ के नेतृत्व में सौपे गए इस ज्ञापन ने उन्होंने सभी बाढ़ पीडि़तों को मुआवजा दिए जाने और डूब क्षेत्र से हटकर उन्हें मकान बनाने के लिए पट्टा आवंटित कर प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ दिलाए जाने की मांग की उक्त मांग को लेकर कलेक्टर कार्यालय पहुंचे ग्रामीणों ने बताया कि पिछले 2 वर्षों से बाढ़ के पानी से उनके मकान क्षतिग्रस्त हो चुके हैं जिसका शासन प्रशासन द्वारा सर्वे भी कराया गया है लेकिन अब तक उन्हें मुआवजे की राशि नहीं दी गई है वही जब बाढ़ आई थी तब अधिकारियों ने उनके गांव का दौरा किया था उस समय अधिकारियों ने उन्हें ऊंचे स्थान पर पट्टा देकर प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत सभी बाढ़ पीडि़तों के मकान बनाए जाने का आश्वासन दिया था लेकिन अधिकारियों ने अब तक बाढ़ पीडि़तों को दिया गया आश्वासन पूरा नहीं किया हैजिसको लेकर सभी बाढ़ पीडि़त काफी परेशान है और वे आज कलेक्टर कार्यालय में प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ दिए जाने की मांग को लेकर गुहार लगाने आए हैं ज्ञापन में उन्होंने स्पष्ट कर दिया यदि शासन प्रशासन द्वारा उन्हें प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ नहीं दिया जाएगा तो वे समस्त ग्रामीणों के साथ भूख हड़ताल करेंगे।
अधिकारियों का आश्वासन नहीं हुआ पूरा

कलेक्टर कार्यालय में ज्ञापन सौंपने पहुंचे कुछ बाढ़ पीडि़तों से जब हमने चर्चा की तो उन्होंने अपना दर्द बताते हुए कहा कि 2 साल से बाढ़ आ रही है लगातार घर बाढ़ में डूब कर जर्जर हो गए हैं। बाढ़ अपने साथ कुछ बहा ले गई जैसे-तैसे अब पॉलिथीन की छत बना कर गुजर-बसर कर रहे हैं।बीते दौर से लगातार बाढ़ से प्रभावित हो रहे लोग बताते हैं कि नुकसान तो बहुत हुआ है लेकिन पंचायत या शासन की ओर से कोई मदद नहीं की जा रही इसलिए वह बहुत अधिक परेशान है।आपको बता दें कि प्रशासन द्वारा बीते वर्ष की तरहा इस वर्ष भी इन लोगों को नदी किनारे बने मकानों से हटाया गया था। लेकिन इनकी मजबूरी है यहां से जाए तो जाए कहां इनकी भी मांग है इस स्थान से उन्हें हटाया जाए लेकिन उसके पहले इन्हें किसी अन्य स्थान पर बसने के लिए पटटे मुहैया कराया जाए। ताकि वे अपना आशियाना बना कर उसमें निवास कर सकें और उन्हें हर साल आने वाली बाढ़ और उस बाढ़ से होने वाली नुकसान का डर ना रहे और वे बेखौफ होकर अपनी जिंदगी गुजर बसर करते रहे। बाढ़ पीडि़त बताते हैं कि अधिकारी हर साल आकर उन्हें आश्वासन देते हैं लेकिन अधिकारियों का आश्वासन कभी पूरा नहीं हुआ है
अधिकारी लोग नहीं कर रहे सुनवाई- सुनीता वघारे
कलेक्टर कार्यालय में सौपे गए इस ज्ञापन के संदर्भ में की गई चर्चा के दौरान कटंगी देवथाना निवासी सुनीता वघारे ने बताया कि बाढ़ के पानी में उनका इस वर्ष भी मकान क्षतिग्रस्त हो गया बारिश में मकान डूब जाने के चलते उनका काफी नुकसान हो गया है जिसका सर्वे प्रशासनिक अधिकारियों के द्वारा किया गया लेकिन उसका अब तक मुआवजा नहीं दिया गया है कई बार नुकसान का मुआवजा देने और ऊंचे स्थान पर पट्टा देकर प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ दिए जाने की मांग कर चुके हैं लेकिन अधिकारी लोग उनकी कोई सुनवाई नहीं कर रहे हैं।
पट्टा देकर प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ दिया जाए- संजय गबने
वही ज्ञापन के संदर्भ में की गई चर्चा के दौरान देवथाना निवासी संजय गबने ने बताया कि लगातार 2 वर्षों से बाढ़ आ रही है जिसमें नदी किनारे बसे कुछ मकान डूब रहे हैं पिछले वर्ष भी बाढ़ आई थी जिसमें अधिकारियों ने सर्वे कर 3-3 हजार रु का मुआवजा बाढ़ पीडि़तों को दिया था वही सभी बाढ़ पीडि़तों को ऊंचे स्थान पर पट्टा देकर उन्हें पीएम आवास योजना का लाभ दिए जाने की बात कही थी लेकिन अधिकारियों को यह आश्वासन महज 3 हजार रु के मुआवजे तक ही सिमट कर रह गया और उन्होंने किसी भी बाढ़ पीडि़त को पट्टा देकर प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ नहीं दिया इस वर्ष भी बाढ़ आई जिसमें मकान डूब जाने के कारण 16 परिवारों की गृहस्थी तबाह हो गई जिसका अधिकारियों ने निरीक्षण कर मुआवजा दिए जाने की बात कही थी वहीं उन्हें पट्टा देकर प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत उनका उनका मकान बनाकर दिए जाने का आश्वासन दिया था पर अब सहायक सचिव सरपंच द्वारा उन्हें पट्टा आवंटित नहीं किया जा रहा है इस वर्ष लगभग 15 से 16 ऐसे मकान है जो बाढ़ के पानी में गिर गए हैं और बाढ़ पीडि़तों के पास रहने के लिए कोई दूसरा ठिकाना नहीं है हम सभी चाहते हैं कि सभी बाढ़ पीडि़तों को पट्टा आवंटित कर प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत सभी के मकान बनाकर दिए जाए ताकि हम लोग अपने परिवार के साथ खुशी खुशी अपना जीवन बसर कर सके ।
मांग पूरी ना होने पर करेंगे भूख हड़ताल- मकसूद खान
वह इस पूरे मामले के संदर्भ में की गई चर्चा के दौरान कांग्रेसी झुग्गी झोपड़ी प्रकोष्ठ के प्रदेश कार्यवाहक अध्यक्ष मकसूद खान ने बताया कि कटंगी देवथाना आवास टोला के ग्रामीण पिछले 2 वर्षों से बारिश व बाढ़ का कहर झेल रहे हैं सभी बाढ़ पीडि़त पट्टे धारी लोग हैं पर उन्हें प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ नहीं दिया जा रहा है इसी तरह बालाघाट में भी प्रधानमंत्री आवास योजना के हितग्राहियों को तीसरी किस्त नहीं मिल रही है और लोगों के मकान अधूरे पड़े हैं मोदी जी हमेशा मन की बात करते हैं लेकिन वे काम की बात नहीं करते शासन ने जब हितग्राहियों को पट्टे दिए थे तो उन्हें प्रधानमंत्री आवास योजना का भी लाभ दिया जाना चाहिए था लेकिन इन बाढ़ पीडि़तों को प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ नहीं दिया गया है जिसके चलते सभी बाढ़ पीडि़तों ने आज झुग्गी झोपड़ी प्रकोष्ठ के माध्यम से कलेक्टर कार्यालय में ज्ञापन सौंपा है यदि हमारी मांग पूरी नहीं की जाती या हमारी समस्याओं का समाधान नहीं किया जाता तो हम समस्त बाढ़ पीडि़तों के साथ मिलकर भूख हड़ताल करेंगे जिसकी संपूर्ण जिम्मेदारी शासन प्रशासन की होगी।

कलेक्टर कार्यालय में ज्ञापन सौंपने पहुंचे कुछ बाढ़ पीडि़तों से जब हमने चर्चा की तो उन्होंने अपना दर्द बताते हुए कहा कि 2 साल से बाढ़ आ रही है लगातार घर बाढ़ में डूब कर जर्जर हो गए हैं। बाढ़ अपने साथ कुछ बहा ले गई जैसे-तैसे अब पॉलिथीन की छत बना कर गुजर-बसर कर रहे हैं।बीते दौर से लगातार बाढ़ से प्रभावित हो रहे लोग बताते हैं कि नुकसान तो बहुत हुआ है लेकिन पंचायत या शासन की ओर से कोई मदद नहीं की जा रही इसलिए वह बहुत अधिक परेशान है।आपको बता दें कि प्रशासन द्वारा बीते वर्ष की तरहा इस वर्ष भी इन लोगों को नदी किनारे बने मकानों से हटाया गया था। लेकिन इनकी मजबूरी है यहां से जाए तो जाए कहां इनकी भी मांग है इस स्थान से उन्हें हटाया जाए लेकिन उसके पहले इन्हें किसी अन्य स्थान पर बसने के लिए पटटे मुहैया कराया जाए। ताकि वे अपना आशियाना बना कर उसमें निवास कर सकें और उन्हें हर साल आने वाली बाढ़ और उस बाढ़ से होने वाली नुकसान का डर ना रहे और वे बेखौफ होकर अपनी जिंदगी गुजर बसर करते रहे। बाढ़ पीडि़त बताते हैं कि अधिकारी हर साल आकर उन्हें आश्वासन देते हैं लेकिन अधिकारियों का आश्वासन कभी पूरा नहीं हुआ है
अधिकारी लोग नहीं कर रहे सुनवाई- सुनीता वघारे
कलेक्टर कार्यालय में सौपे गए इस ज्ञापन के संदर्भ में की गई चर्चा के दौरान कटंगी देवथाना निवासी सुनीता वघारे ने बताया कि बाढ़ के पानी में उनका इस वर्ष भी मकान क्षतिग्रस्त हो गया बारिश में मकान डूब जाने के चलते उनका काफी नुकसान हो गया है जिसका सर्वे प्रशासनिक अधिकारियों के द्वारा किया गया लेकिन उसका अब तक मुआवजा नहीं दिया गया है कई बार नुकसान का मुआवजा देने और ऊंचे स्थान पर पट्टा देकर प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ दिए जाने की मांग कर चुके हैं लेकिन अधिकारी लोग उनकी कोई सुनवाई नहीं कर रहे हैं।
पट्टा देकर प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ दिया जाए- संजय गबने
वही ज्ञापन के संदर्भ में की गई चर्चा के दौरान देवथाना निवासी संजय गबने ने बताया कि लगातार 2 वर्षों से बाढ़ आ रही है जिसमें नदी किनारे बसे कुछ मकान डूब रहे हैं पिछले वर्ष भी बाढ़ आई थी जिसमें अधिकारियों ने सर्वे कर 3-3 हजार रु का मुआवजा बाढ़ पीडि़तों को दिया था वही सभी बाढ़ पीडि़तों को ऊंचे स्थान पर पट्टा देकर उन्हें पीएम आवास योजना का लाभ दिए जाने की बात कही थी लेकिन अधिकारियों को यह आश्वासन महज 3 हजार रु के मुआवजे तक ही सिमट कर रह गया और उन्होंने किसी भी बाढ़ पीडि़त को पट्टा देकर प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ नहीं दिया इस वर्ष भी बाढ़ आई जिसमें मकान डूब जाने के कारण 16 परिवारों की गृहस्थी तबाह हो गई जिसका अधिकारियों ने निरीक्षण कर मुआवजा दिए जाने की बात कही थी वहीं उन्हें पट्टा देकर प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत उनका उनका मकान बनाकर दिए जाने का आश्वासन दिया था पर अब सहायक सचिव सरपंच द्वारा उन्हें पट्टा आवंटित नहीं किया जा रहा है इस वर्ष लगभग 15 से 16 ऐसे मकान है जो बाढ़ के पानी में गिर गए हैं और बाढ़ पीडि़तों के पास रहने के लिए कोई दूसरा ठिकाना नहीं है हम सभी चाहते हैं कि सभी बाढ़ पीडि़तों को पट्टा आवंटित कर प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत सभी के मकान बनाकर दिए जाए ताकि हम लोग अपने परिवार के साथ खुशी खुशी अपना जीवन बसर कर सके ।
मांग पूरी ना होने पर करेंगे भूख हड़ताल- मकसूद खान
वह इस पूरे मामले के संदर्भ में की गई चर्चा के दौरान कांग्रेसी झुग्गी झोपड़ी प्रकोष्ठ के प्रदेश कार्यवाहक अध्यक्ष मकसूद खान ने बताया कि कटंगी देवथाना आवास टोला के ग्रामीण पिछले 2 वर्षों से बारिश व बाढ़ का कहर झेल रहे हैं सभी बाढ़ पीडि़त पट्टे धारी लोग हैं पर उन्हें प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ नहीं दिया जा रहा है इसी तरह बालाघाट में भी प्रधानमंत्री आवास योजना के हितग्राहियों को तीसरी किस्त नहीं मिल रही है और लोगों के मकान अधूरे पड़े हैं मोदी जी हमेशा मन की बात करते हैं लेकिन वे काम की बात नहीं करते शासन ने जब हितग्राहियों को पट्टे दिए थे तो उन्हें प्रधानमंत्री आवास योजना का भी लाभ दिया जाना चाहिए था लेकिन इन बाढ़ पीडि़तों को प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ नहीं दिया गया है जिसके चलते सभी बाढ़ पीडि़तों ने आज झुग्गी झोपड़ी प्रकोष्ठ के माध्यम से कलेक्टर कार्यालय में ज्ञापन सौंपा है यदि हमारी मांग पूरी नहीं की जाती या हमारी समस्याओं का समाधान नहीं किया जाता तो हम समस्त बाढ़ पीडि़तों के साथ मिलकर भूख हड़ताल करेंगे जिसकी संपूर्ण जिम्मेदारी शासन प्रशासन की होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here