काफी खतरनाक थे अलकायदा के गिरफ्तार 9 आतंकियों के मंसूबे, दिल्ली थी निशाने पर

0

नई दिल्ली : राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने शनिवार को आतंकवादी संगठन अलकायदा के नौ आतंकवादियों को गिरफ्तार उनकी बड़ी साजिश नाकाम कर दी। ये सभी आतंकवादी राजधानी दिल्ली सहित देश के अन्य हिस्सों में आतंक की बड़ी वारदात को अंजाम देने के फिराक में थे। इनके निशाने पर दिल्ली थी। एनआई का कहना है कि यह मॉड्यूल अपने आतंक का नेटवर्क बड़ा करने के लिए फंड जुटा रहा था और इसके कुछ सदस्य हथियार खरीदने के लिए दिल्ली जाने वाले थे। ये देश के कई हिस्सों में हमले की कोशिश भी कर चुके थे। इन आतंकियों के मंसूबे काफी खतरनाक थे। ये निर्दोष नागरिकों की हत्या कर दहशत फैलाना चाहते थे।

पाकिस्तान में मौजूद अलकायद के आकाओं ने दी थी ट्रेनिंग
जांच एजेंसी का कहना है कि शुरुआती जांच में पता चला है कि पाकिस्तान स्थित अलकायदा के आतंकवादियों ने सोशल मीडिया के जरिए इनका ब्रेनवाश किया था। ये दिल्ली सहित अन्य जगहों पर हमला करने की फिराक में थे। बता दें कि एनआईए ने पश्चिम बंगाल और केरल के अलग-अलग जगहों पर छापा मारकर ये गिरफ्तारियां की हैं। तीन आतंकवादी केरल के एर्नाकुलम से और छह आतंकी पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद से गिरफ्तार हुए हैं। बताया जा रहा है कि ये सभी आतंकवादी 20 साल से कम उम्र के हैं और मजदूर के रूप में काम करते हैं। रिपोर्टों के मुताबिक

प. बंगाल और केरल से हुई गिरफ्तारी
एनआईए ने मुर्शिद हसन, याकूब बिस्वास, मुसरफ हुसैन को एर्णाकुल से गिरफ्तार किया है जबकि नजमुस साकिब, अबू सुफियान, मैनुल मंडल, लियू यिन अहमद, अल मामून कमाल और अतितुर रहमान को मुर्शिदाबाद से गिरफ्तार किया गया है। एनआईए का कहना है कि इनके पास से डिजिटिल उपकरण, जिहादी साहित्य, धारदार हथियार, कट्टा, स्थानीय स्तर पर बनाए गए जिरह बख्तर, घर में ही विस्फोटक उपकरण बनाने की जानकारी देने वाले लेख और साहित्य सहित आपत्तिजनक सामग्री जब्त की गई है।

पुलिस हिरासत में लेकर पूछताछ करेगी एनआईए
एनआईए के एक वरिष्ठ अधिकारी का कहना है कि एजेंसी को इनके बारे में खुफिया जानकारी मिली थी जिसके बाद इस मॉड्यूल की निगरानी की जा रही थी। जांच एजेंसी को यह भी पता चला है कि पश्चिम बंगाल एवं केरल सहित देश के अन्य हिस्सों से अल कायदा का एक अंतर राज्यीय माड्यूल चलाया जा रहा है। यह माड्यूल निर्दोष लोगों की हत्या कर आतंक फैलाना चाहता था। एनआईए का कहना है कि गिरफ्तार आतंकवादियों को केरल और पश्चिम बंगाल के कोर्ट में पेश करने के बाद पूछताछ के लिए  इनकी पुलिस हिरासत मांगी जाएगी।

पाकिस्तान में मौजूद अलकायद के आकाओं ने दी थी ट्रेनिंग
जांच एजेंसी का कहना है कि शुरुआती जांच में पता चला है कि पाकिस्तान स्थित अलकायदा के आतंकवादियों ने सोशल मीडिया के जरिए इनका ब्रेनवाश किया था। ये दिल्ली सहित अन्य जगहों पर हमला करने की फिराक में थे। बता दें कि एनआईए ने पश्चिम बंगाल और केरल के अलग-अलग जगहों पर छापा मारकर ये गिरफ्तारियां की हैं। तीन आतंकवादी केरल के एर्नाकुलम से और छह आतंकी पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद से गिरफ्तार हुए हैं। बताया जा रहा है कि ये सभी आतंकवादी 20 साल से कम उम्र के हैं और मजदूर के रूप में काम करते हैं। रिपोर्टों के मुताबिक

प. बंगाल और केरल से हुई गिरफ्तारी
एनआईए ने मुर्शिद हसन, याकूब बिस्वास, मुसरफ हुसैन को एर्णाकुल से गिरफ्तार किया है जबकि नजमुस साकिब, अबू सुफियान, मैनुल मंडल, लियू यिन अहमद, अल मामून कमाल और अतितुर रहमान को मुर्शिदाबाद से गिरफ्तार किया गया है। एनआईए का कहना है कि इनके पास से डिजिटिल उपकरण, जिहादी साहित्य, धारदार हथियार, कट्टा, स्थानीय स्तर पर बनाए गए जिरह बख्तर, घर में ही विस्फोटक उपकरण बनाने की जानकारी देने वाले लेख और साहित्य सहित आपत्तिजनक सामग्री जब्त की गई है।

पुलिस हिरासत में लेकर पूछताछ करेगी एनआईए
एनआईए के एक वरिष्ठ अधिकारी का कहना है कि एजेंसी को इनके बारे में खुफिया जानकारी मिली थी जिसके बाद इस मॉड्यूल की निगरानी की जा रही थी। जांच एजेंसी को यह भी पता चला है कि पश्चिम बंगाल एवं केरल सहित देश के अन्य हिस्सों से अल कायदा का एक अंतर राज्यीय माड्यूल चलाया जा रहा है। यह माड्यूल निर्दोष लोगों की हत्या कर आतंक फैलाना चाहता था। एनआईए का कहना है कि गिरफ्तार आतंकवादियों को केरल और पश्चिम बंगाल के कोर्ट में पेश करने के बाद पूछताछ के लिए  इनकी पुलिस हिरासत मांगी जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here