गांगुलपारा पर योजना कब होगी पूरी

0

बालाघाट (पद्मेश न्यूज)। गांगुलपारा जलाशय में नौका विहार शुरू करने सहित अन्य योजना के लिए ना जाने कितने वर्षों से कागजी फाइलें दौड़ाई जा रही है लेकिन धरातल पर कुछ होता दिखाई नहीं दे रहा है। अब कारण बताया जा रहा है कि कोविड की परेशानी आ गई इसलिए योजना में देरी हो गई। अब वन विभाग के अधिकारी बता रहे हैं कि योजना तैयार हो चुकी है। लगभग 25 लाख हजार की योजना तैयार की गई है उसके अनुसार यह सभी काम करवाए जाने हैं। यह कार्य अभी तक हो जाना था लेकिन कोरोना संक्रमण आ जाने के कारण यह कार्य अटका हुआ है। फिर भी यह कार्य आगामी कुछ महीनों में पूर्ण कर दिए जाने के बाद विभाग द्वारा कही जा रही है।
आयुष मंत्री ने किया था निरीक्षण

यह बताएं कि पिछले माह ही आयुष मंत्री रामकिशोर कावरे द्वारा कलेक्टर के साथ गांगुलपारा जलाशय का निरीक्षण किया गया था उस दौरान यहां इस जलाशय को व्यवस्थित किए जाने तथा आवश्यक विकास कार्य कराए जाने के निर्देश दिए गए थे। श्री कावरे द्वारा ही निर्देशित किया गया था कि यहां जो गेस्ट हाउस है उसका रिनोवेशन कार्य किया जाए ताकि यह लोग इसको देख सके। तथा इस स्थल को अच्छा बनाए जाने के निर्देश दिए गए ताकि पर्यटक इस स्थल में घूमने के तौर पर आ सके तथा उसके माध्यम से यहां आस-पास के ग्रामवासियों को रोजगार भी उपलब्ध हो।
काफी समय से बंद है यह जलाशय

गांगुलपरा जलाशय काफी चीजों के लिए प्रचलित है जिसके चलते बालाघाट जिले के ही नहीं समीपवर्ती राज्य महाराष्ट्र के विभिन्न जगहों से लोग इस स्थान पर घूमने के लिए बड़ी संख्या में पहुंचते हैं। यह भी बताएं कि इस जलाशय को घूमने के लिए विगत लंबे समय से बंद रखा गया है स्थान को बंद पाकर पर्यटक काफी निराश होकर लौट जाते हैं। चला साइको पर्यटकों के लिए खोले जाने हेतु स्थानीय जनप्रतिनिधियों द्वारा कई बार आवाज उठाई गई है जिला प्रशासन को अवगत कराया जा चुका है, लेकिन विभाग द्वारा इस ओर ध्यान नहीं दिया गया था।
एक-दो माह के अंदर निर्माण कार्य प्रारंभ किया जाएगा – सीसीएफ
के संदर्भ में चर्चा करने पर मुख्य वन संरक्षक नरेंद्र कुमार सनोडीया ने बताया कि गांगुलपरा पर्यटक स्थल को मनोरंजन केंद्र के रूप में विकसित कर रखा है उसको लेकर वार्षिक रूप से इसकी योजना बनती है विगत कुछ दिनों से यहां जो नौकायान कराया जाता था वह बंद है उसे फिर से चालू कराएंगे। साथ ही वहां पर एक गेस्ट हाउस जैसा बना है उसको भी रिनोवेट करेंगे, ताकि वहां पर जो परिवार बच्चे जाते हैं वह उसको देखकर उसका लुत्फ उठा सकें। वहां विकास के कार्य और कराए जाएंगे कोविड-19 रण हम इंतजार कर रहे हैं जैसे ही मौसम खुल जाएगा उसके एक-दो माह के अंदर क्रियान्वित किया जाएगा। श्री सनोदिया ने बताया कि करीब 25 लाख रुपए का प्रस्ताव बनाकर विभाग को भेजा जा चुका है, यहां विकास कार्य आगे भी निरंतर किया जाता रहेगा इस स्थान पर मनोरंजन केंद्र विकसित होगा तो वहां के लोगों को रोजगार मिलेगा खाने-पीने के सामानों की बिक्री होगी। इसके अलावा बच्चों को प्रशिक्षित किया जाएगा जो गाइड के रूप में उस स्थल ने जो खासियत है वहां की जानकारी घूमने आने वाले लोगों को दी जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here