ग्राम रोजगार सहायक स΄गठन ने सीईओ जनपद पंचायत लांजी को सौ΄पा सामूहिक त्यागपत्र

0

लांजी (पद्मेश न्यूज)। जनपद पंचायत लांजी के अंतर्गत क्षेत्र में कुल 77 पंचायत है जिसके लिए जनपद पंचायत के द्वारा प्रत्येक पंचायत में ग्राम रोजगार सहायक पदस्थ किया गया है। इन रोजगार सहायक को द्वारा बीते कई महीनों से जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी से अपनी मांगों के संबंध में अवगत कराकर मांगे पूरी किये जाने के संबंध में मांग की जा रही थी, परंतु अब तक इनकी बात नहीं सुनी गई जिसके चलते 26 सितंबर को लगभग 75 पंचायतों के रोजगार सहायकों ने अपनी मांगों को लेकर सामूहिक रूप से त्यागपत्र दे दिया। इस संबंध में रोजगार सहायक संघ के अध्यक्ष अजय जुझार, भुवन फुल्लारे ने बताया कि उनके द्वारा त्याग पत्र के माध्यम से जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी को अवगत कराया कि ग्राम पंचायतो में सभी कार्य सरपंच, सचिव, ग्राम रोजगार सहायक, पंचायत समन्वयक अधिकारी एवं उपयंत्री द्वारा संयुक्त रूप से कार्य किया जाता है किन्तु कार्य में किसी भी प्रकार की गलती पायी जाती है तो अकेले ग्राम रोजगार सहायकों पर ही एक तरफा कार्यवाही की जाती है। ग्राम पंचायत सिरेगांव आवास चयन में गडबडी के संबंध में केवल ग्राम रोजगार सहायक को ही 22 सितम्बर को कारण बताओं नोटिस जारी किया गया जबकि आवास सत्यापन में सरपंच, सचिव, ग्राम रोजगार सहायक एवं पंचायत समन्वयक अधिकारी द्वारा किया जाता है। ग्राम पंचायत ककोड़ी जीआरएस को मनरेगा में वसूली के साथ-साथ आवास चयन में लापरवाही के संबंध में सेवा समाप्त किया गया, जिबकी इसमें भी सरपंच सचिव एवं पंचायत समन्वयक अधिकारी की संयुक्त जिम्मेदारी बनती है। ग्राम रोजगार सहायकों को न्यूनतम पारिश्रमिक पिछले 7-8 वर्ष हो गये परंतु कोई इंक्रीमेंट नहीं हो रहा है। ग्राम रोजगार सहायकों को न्यूनतम पारिश्रमिक 9 हजार रूपये दिया जाता है पंचायत के सभी कार्यो को जीआरएस के द्वारा किया जाता है और मनरेगा में प्रगति नहीं आने पर राशि कटौती की जाती है। पंचायत के नवीन कार्यो के लिए टीएस करवाने के लिए सिर्फ ग्राम रोजगार सहायकों पर ही दबाव बनाया जा रहा है, युक्त सभी कारणों से परेशान होकर एवं सभी ग्राम रोजगार सहायक मानसिक रूप से प्रताडित है। इसी के संबंध में सभी पंचायतों के ग्राम रोजगार सहायक के द्वारा 26 सितम्बर को सामूहिक रूप से जनपद सीईओ रंजीत सिंह ताराम को त्यागपत्र दिया गया।
जांच उपरान्त ही दोषियों के विरूद्ध कार्यवाही- सीईओ रंजीतसिंह ताराम
पंचायत रोजगार सहायकों द्वारा सामूहिक रूप से त्यागपत्र दिये जाने के संबंध में जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी रंजीतसिंह ताराम से चर्चा करने पर बताया कि त्यागपत्र सामूहिक रूप से होने से इसे उनका मांग पत्र ही समझे। उनकी कुछ मांगे शासन स्तर की है तो कुछ मांगे जनपद स्तर की है, जिन पर चर्चा कर उनकी समस्या का समाधान किया जायेगा। रही बात रोजगार सहायकों पर कार्यवाही की तो जिन्होंने ने गलत काम किया है उनकी पुरी तरह से जांच उपरान्त ही दोषी पाये जाने पर एवं उनके स्पष्टीकरण उपरान्त ही उनके विरूद्ध कार्यवाही की गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here