ग्वालियर-चंबल अंचल में चुनावी पारा बढ़ते ही कोरोना का आंकड़ा गिरा

0

ग्वालियर-चंबल अंचल में 13 सीटों पर उपचुनाव होना है। राजनीतिक गतिविधियां तेज हो चुकी हैं। जैसे-जैसे चुनावी पारा बढ़ता जा रहा है, कोरोना का ग्राफ गिरता जा रहा है। पिछले एक हफ्ते में अंचल के चार प्रमुख जिले मुरैना, भिंड, शिवपुरी और दतिया में तो रोजाना दो, चार और पांच केस ही निकल रहे हैं।

इसी प्रकार ग्वालियर में किसी समय ढाई सौ से अधिक मरीज रोज निकल रहे थे, लेकिन अब आंकड़ा दहाई के अंक तक सिमट गया है। हालांकि अब सैंपलिंग भी एक तिहाई ही बची है। प्रशासन भले ही यह दलील दे रहा है कि लोग नहीं आ रहे हैं इसलिए कोरोना जांच टारगेट तक नहीं पहुंच पा रही है, लेकिन चुनाव व्यस्तता के चलते एमएमयू यूनिट भी सैंपलिंग नहीं कर रही है। साथ ही कॉटैक्ट ट्रेसिंग भी अब बंद हो चुकी है।

सैंपलिंग में टारगेट से पिछड़े: सैंपलिंग के लिए दो नोडल अधिकारी, एमएमयू टीम,टैक्नीशियन ,साधन व संसाधन सब मौजूद हैं, इसके बाद भी सैंपलिंग में ग्वालियर अंचल सबसे पीछे है। स्वास्थ्य महकमे ने सभी जिलों के लिए सैंपलिंग का टारगेट निधारित किया था। ग्वालियर में प्रतिनिधि 2000 सैंपल होना थे, लेकिन जिला टारगेट से कोसो दूर है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here