चौपाटी पथ विक्रेताओ΄ ने की नपा अधिकारी से मुलाकात

0

बालाघाट(पद्मेश न्यूज)। चौपाटी के समीप दुकान लगाकर अपना व्यवसाय करने वाले पथ विक्रेताओं ने सोमवार को नगर पालिका पहुंचकर मुख्य नगरपालिका अधिकारी सतीश मटसेनिया से मुलाकात की जिसमें उन्होंने चौपाटी में बनाई गई दुकानों की कीमत पूर्व के पथ विक्रेताओं के लिए कम करने, किस्तों में रियायत दिए जाने, केवल लागत राशि ही लिए जाने और बयाना की राशि 3 लाख की जगह 50 हजार किए जाने की मांग की ,वही मांग पूरी ना होने पर परिवार के साथ सड़क पर बैठक हड़ताल जाने की चेतावनी दी है।मुख्य नगरपालिका अधिकारी से की गई इस मुलाकात के संदर्भ में की गई चर्चा के दौरान फुटकर व्यापारी ने बताया कि जब अतिक्रमण के नाम पर उनकी दुकानें हटाई गई थी तब उन्हें जिला प्रशासन द्वारा दुकान बनाकर दिए जाने की बात कहीं गई थी वही उन हमसे से महज 60-70 हजार रुपे की लागत लेने को कहा गया था लेकिन अब जब दुकानें बन गई है तो हटाए गए सभी फुटकर व्यापारियों से दुकान के नाम पर 11 लाख रुपए लिए जा रहे हैं वही3 लाख रु बयाना और 25 से 30 हजार रुपए की किस्त बनाई जा रही है हमारी मांग है की बयाना व किस्त की राशि कम की जाए वही दुकान बनाने में जितनी लागत लगी है उतनी ही लागत हमसे किस्तों में वसूली जाए यदि हमारी मांगे पूरी नहीं की जाती तो हम अपना पूरा परिवार लेकर भूख हड़ताल पर बैठ जाएंगे वही इस पूरे मामले के संदर्भ में की गई चर्चा के दौरान मुख्य नगरपालिका अधिकारी सतीश मटसेनिया ने नगर पालिका प्रशासक, कलेक्टर दीपक आर्य से इस मुद्दे पर चर्चा कर इस समस्या का हल निकालने की बात कही है
बयाना देने के लिए 3लाख रु कहां से लाएंगे- राजेश नेमा
इस पूरे मामले के संदर्भ में की गई चर्चा के दौरान दुकानदार राजेश नेमा ने बताया कि नगर पालिका हमें दुकान देना चाहती है लेकिन नगर पालिका द्वारा दुकान देने के नाम पर 11लाख रुपए मांगे जा रहे हैं वहीं वर्तमान में बयाने के तौर पर3लाख रु जमा करने कहां जा रहा है हम इतना पैसा कहां से लाएंगे हम अपने जेवर ,मकान बेचकर भी इतना पैसा जमा नहीं कर सकते वहीं तीन लाख जमा करने के बाद नगर पालिका द्वारा 25 से 30हजार रु की 24 किस्त बांधने की बात कही जा रही है हम चाहते हैं कि हमसे सिर्फ लागत वसूली जाए वही ब्याने के तौर पर 3 लाख की जगह 50 हजार रु लिए जाए वही 24 किस्तों को बढ़ाकर किस्त की राशि कम की जाए यदि हमारी यह मांग पूरी नहीं की जाती तो हम बाल बच्चों को लेकर हड़ताल पर बैठ जाएंगे।
दुकान हटाते समय बोले थे सिर्फ लागत मूल्य देना अब मांग रहे 11 लाख- ओम प्रकाश जयसवाल
वही फुटकर व्यापारी ओमप्रकाश जायसवाल ने बताया कि चौपाटी बनने के पूर्व वहां 14लोग अपनी दुकान लगाते थे जब अतिक्रमण हटाया गया था तब जिला प्रशासन द्वारा उन्हें दुकान बना कर दिए जाने की बात कही गई थी जिसमें प्रशासनिक अधिकारियों ने दुकान बनाने का लागत मूल्य 50 से 60 हजार रुपए देने की बात कही थी लेकिन अब जब दुकान बन गई है तब अधिकारी लोग दुकान देने के नाम पर 11लाख रुपए मांग रहे हैं और तुरंत 3लाख रु जमा करने की बात कह रहे हैं हम इस कोरोना काल में इतना पैसा कहां से लाएंगे अभी काम धंधे बंद है रोजगार नहीं चल रहा है हम चाहते हैं कि दुकान की वाजिब लागत हमसे ली जानी चाहिए यदि ऐसा नहीं हुआ तो हम भूख हड़ताल पर बैठ जाएंगे।
प्रशासक से की जाएगी चर्चा-मटसेनिया
वह इस पूरे मामले के संदर्भ में की गई चर्चा के दौरान मुख्य नगरपालिका अधिकारी सतीश मटसेनिया ने बताया कि फुटकर व्यापारियों को चर्चा क लिए बुलाया गया था वे कई वर्षों से चौपाटी के स्थान पर अपना व्यवसाय कर रहे थे उनके व्यवस्थापन पर चर्चा की गई है दुकानदार दुकानों को लेने के लिए रियायत मांग रहे हैं हम दुकानदारों की इस मांग से प्रशासक को अवगत कराएंगे उनके साथ विभिन्न विषयों पर चर्चा करेंगे प्रशासक महोदय द्वारा जो भी फैसला लिया जाएगा उसकी जानकारी फुटकर व्यापारियों को दी जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here