टॉप 5 की दौड़ में बालाघाट

0

बालाघाट(पद्मेश न्यूज)। मध्यप्रदेश शासन स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार कोरोनावायरस संक्रमण बड़ी तेजी से छोटे जिलों में फैल रहा है। इस सूची में बालाघाट का नाम भी शामिल हो गया है। शासन द्वारा बकायदा जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार 29 सितंबर को पूरे प्रदेश में आए कोरोना केस के टॉप 5 जिलों में बालाघाट भी शामिल था। यही नहीं जनसंख्या घनत्व और क्षेत्रफल की दृष्टि से बालाघाट जिले में सितंबर माह में अचानक कोरोना पॉजीटिव्ह की संख्या बढ़ी है। सितंबर माह के 30 दिनों में 750 के लगभग पॉजीटिव्ह मरीज आए हैं। निश्चित ही यह किसी छोटे जिले के लिए अचानक पॉजीटिव्ह मरीजों की संख्या का बहुत बड़ा आंकड़ा माना जा रहा है।
जिले का रिकवरी रेट अच्छा

इस दौरान पॉजीटिव्ह हुए मरीजों की मौत का आंकड़ा भी लगभग 25 से 30 के करीब पहुंचा है। जिनकी मौत बालाघाट या फिर बाहर इलाज कराने के दौरान हुई है। मतलब साफ है कि सितम्बर का महीना कोरोना की दृष्टि से बालाघाट के लिए अच्छा नहीं रहा है। हालांकि इस बीच एक ही खबर रहत पहुचाने वाली है कि यहां पर कोरोना से ठीक होने वालों की संख्या और रिकवरी रेट काफी अच्छा है।
घर पर इलाज करवाते हुए भी ठीक हो रहे मरीज – सीएमएचओ
मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ मनोज पांडे के अनुसार कोरोना संक्रमण को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग की ओर से ऑक्सीजन बेड की संख्या बढ़ाई गई है बावजूद इसके लोग घर पर इलाज करवाते हुये भी ठीक हुए हैं। कोशिश यही की जा रही है कि जिसमें भी संक्रमण के लक्षण दिखाई दें वह तत्काल फीवर क्लीनिक पहुंचे और अपनी जांच करवाएं, जिससे संक्रमण का खतरा बढऩे से रोका जा सके।
2 राज्यों का सीमावर्ती जिला होने के कारण बढ़ रहे केस
जिले के भीतर कोरोना संक्रमण का खतरा इसलिए भी तेजी से बढ़ रहा है उसकी बड़ी वजह महाराष्ट्र व छत्तीसगढ़ का सीमावर्ती जिला होना है जिस हिसाब से इन दोनों राज्यों में कोरोना के केस बढे है उसी रफ्तार से बालाघाट में केस बढ़ रहे है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here