दुर्गा पंडाल के लिए हा΄- साउंड सिस्टम के लिए ना

0

बालाघाट (पद्मेश न्यूज)। गुरुवार को तहसील कार्यालय बालाघाट के सभाकक्ष में दुर्गा समिति और डीजे संचालकों की बैठक आयोजित कर शासन द्वारा जारी दिशा निर्देश तथा शांति समिति की बैठक में जारी निर्देशों के संबंध में सभी को अवगत कराया गया।आयोजित इस बैठक में जिला प्रशासन द्वारा दुर्गा समिति पंडाल के पदाधिकारियों और साउंड सिस्टम संचालकों को प्रशासन ने कोविड के नियमों का पालन करते हुए दुर्गा समिति को प्रतिमा स्थापित करने की अनुमति दे दी लेकिन साउंड सिस्टम लगाने की अनुमति नहीं दी गई जिस पर साउंड सिस्टम संचालकों द्वारा नाराजगी व्यक्त की गई।जिसपर साउंड सिस्टम संचालकों ने दो टूक शब्दों में कहा कि बीते 6 महीने से खाली बैठे हैं शासन ने दुर्गा उत्सव समिति में भी साउंड सिस्टम लगाने की अनुमति नहीं दी जिस कारण उनकी आर्थिक स्थिति और अधिक खराब हो जाएगी यही हालत चलते रहे तो उनके द्वारा भविष्य में सरकारी कार्यक्रमों में किसी भी तरह का सिस्टम नहीं लगाया जाएगा उसका पूरी तरह से बहिष्कार किया जाएगा। वही बैठक में उपस्थित ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन के सदस्यों ने शासन के फैसले का स्वागत किया और कहा कि महामारी को देखते हुए नियमों का पालन करना बेहद जरूरी है। आयोजित इस बैठक में एसडीम बालाघाट, सीएसपी बालाघाट, थाना प्रभारी कोतवाली, तहसीलदार बालाघाट और समस्त समितियों के पदाधिकारी तथा डीजे संचालक उपस्थित रहे।
डीजे को पूरी तरह बैन कर दिया है- रवि श्रीवास्तव
आयोजित इस बैठक के संदर्भ में की गई चर्चा के दौरान डीजे संचालक रवि श्रीवास्तव ने बताया कि एसडीएम साहब ने शांति समिति व दुर्गा पंडाल वालों की एक बैठक बुलाई थी जिसमें डीजे साउंड सिस्टम वालों को भी बुलाया था इस बैठक में दुर्गा पंडालों, विसर्जन व चल समारोह में डीजे को बैन किया गया है और डीजे बजाने पर उसे जप्त करने को कहा गया है इसके अलावा हमें डीजे बजाने के आर्डर भी नहीं लेने को कहा गया है उन्होंने बताया कि बालाघाट में 50 से 60 डीजे साउंड वाले हैं और हम पिछले 9 माह से बैठे हुए हैं शासन से हमे अब तक आर्थिक सहायता नहीं मिली है हमने बैंकों से लोन लेकर साउंड सिस्टम का काम शुरू किया था बैंक वाले भी अब कर्ज के लिए हमारे घर आने लगे हैं वही हमें सीजन काम करने नहीं दिया जा रहा है जबकि चुनाव व अन्य शासकीय कार्य में हमारा उपयोग स्वयं अधिकारी लोग करते हैं और अभी डीजे पर ही बैन लगा दिया गया है जो कि गलत है।
तो चुनाव सहित अन्य शासकीय कार्यों का करेंगे बहिष्कार-दशरथ मदनकर
वही बैठक में उपस्थित डीजे संचालक दशरथ मदनकर ने बताया कि तीज त्योहारों के सीजन में सभी लोगों को राहत प्रदान कर दी गई है लेकिन साउंड सिस्टम वाले को शासन द्वारा राहत नहीं दी गई है और साउंड सिस्टम बजाने को बैन किया गया है यदि ऐसा ही रहा तो हम आने वाले समय में चुनाव व अन्य शासकीय कार्यों में अपने साउंड सिस्टम नहीं देंगे क्योंकि हमारा घर साउंड सिस्टम पर ही चलता है यदि इसे ही बैन कर दिया गया तो हम भी शासकीय कार्यों का बहिष्कार करेंगे।
हमें दिखावा नहीं करना है-अविनाश ठाकुर
वही इस पूरे मामले के संदर्भ में की गई चर्चा के दौरान बैठक में उपस्थित बालाघाट ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन के पदाधिकारी अविनाश ठाकुर ने बताया कि शासन द्वारा जो भी दिशा निर्देश जारी किए गए हैं वह बिल्कुल सही है हमें इस वर्ष दिखावे से दूर रहना है और सादगी से पूजा करनी है हमने बैठक में सुझाव दिया है कि नगरपालिका की तरफ से प्रतिवर्ष बालाघाट की सबसे अच्छी मूर्ति व अच्छे डेकोरेशन वाले को इनाम दिया जाता है इस वर्ष इस नियम में थोड़ा बदलाव करना चाहिए और इस वर्ष छोटी सुंदर मूर्ति व सादगी वाले पंडाल जिसमें स्वच्छता व सोशल डिस्टेंसिंग के पालन सहित कोविड-19 के नियमों का पालन हो ऐसे दुर्गा समितियों को पहला पुरस्कार दिया जाना चाहिए।
सभी कार्य नियम के अनुसार ही करने कहा गया है- के सी बोपचे
आयोजित इस बैठक के संदर्भ में की गई चर्चा के दौरान एसडीएम केसी बोपचे ने बताया कि दुर्गा समिति पंडाल व साउंड सिस्टम वालों को बैठक में बुलाया गया था इसके आठ-दस दिन पहले भी एक बैठक ली जा चुकी है वर्तमान में शासन की नई गाइडलाइंस मिली है जिससे उन्हें अवगत कराने के लिए बैठक का आयोजन किया गया था इसमें पंडाल का साइज, माता की प्रतिमा कम हाइट की रखने, पंडाल में केवल पोंगा बजाने, सोशल दूरी,सैनिटाइजर अनिवार्य मास्क का पालन करने सहित आरती में कम से कम लोग बुलाने और बच्चों और बुढो को आरती में शामिल ना करने के दिशा निर्देश दिए गए हैं वहीं विसर्जन के लिए नगर पालिका से वाहन उपलब्ध कराए जाने को कहा गया है बैठक में एक निवेदन आया है जिसमें कहा गया है कि जो सिंपल रूप से मूर्ति बैठाएगा, सोशल डिस्टेंसिंग व कोविड के नियमों का पालन करेगा उसे प्रथम पुरस्कार दिया जाएगा इसको लेकर वरिष्ठ अधिकारियों से चर्चा की जाएगी और वहां से जो भी निर्देश प्राप्त होंगे उसके तहत कार्य किया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here