धार्मिक परंपराओं के साथ मनाया गया विजयादशमी पर्व,धू-धू कर जला अहंकार का प्रतीक रावण

0

अधर्म पर धर्म की जीत का विजय पर्व दशहरा जिला मुख्यालय सहित ग्रामीण अंचलों में धार्मिक परंपराओं के साथ मनाया गया त्यौहार पर कोरोना का व्यापक तौर पर असर नजर आया लेकिन नगर में महावीर सेवा दल समिति के द्वारा शासन की गाइडलाइन का पालन करते हुए दशहरा पर्व मनाया गया नए राम मंदिर से भगवान श्री राम लक्ष्मण और हनुमान की जीवंत झांकी निकाली गई जो अंबेडकर चौक से होते हुए दशहरा मैदान पहुंची जहां पर भगवान श्री राम के द्वारा अहंकार रूपी रावण का वध कर दहन किया गया आपको बताएं कि काफी वर्षों से महावीर सेवा दल समिति के द्वारा पानीपत की तर्ज पर दशहरा मनाया जाता है लेकिन इस वर्ष चल समारोह का आयोजन नहीं किया गया और सादे कार्यक्रम के तहत दशहरा पर्व आयोजित किया गया वही कार्यक्रम के दौरान पुलिस प्रशासन पूरी तरह मुस्तैद रहा कलेक्टर सहित अन्य प्रशासनिक अधिकारी मैदान में मौजूद रहे चाक-चौबंद व्यवस्था के बीच रावण दहन किया गया  कोरोना  संक्रमण को देखते हुए मैदान में  काफी कम संख्या में  लोग रावण दहन  देखने पहुंचे   वही रावण दहन के लिए शोभायात्रा निकलने के साथ ही 40 दिनों तक कठिन तपस्या के बाद विक्रम त्रिवेदी के द्वारा हनुमान जी का चोला धारण किया गया जिन्होंने संकट मोचन की पूजा अर्चना कर  उनका  आशीर्वाद प्राप्त किया 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here