नूतन कला निकेतन के अध्यक्ष निर्वाचित हुए रूप कुमार वनवाले

0

बालाघाट (पद्मेश न्यूज)। नगर की सांस्कृतिक संस्था नूतन कला निकेतन में रविवार को 3 वर्षीय कार्यकाल के लिए निर्वाचन अधिकारियों की मौजूदगी में अध्यक्ष पद के लिए चुनाव प्रक्रिया संपन्न कराई गई जिसमें 26 मतों के साथ रुप कुमार वनवाले निर्वाचित हुए हैं आपको बताएं कि नूतन कला निकेतन के अध्यक्ष का 3 साल के कार्यकाल पूर्ण होने के बाद सर्वसम्मति से अध्यक्ष का मनोनयन किया जाना था लेकिन अध्यक्ष पद के लिए एक से अधिक लोगों की दावेदारी किए जाने पर चुनाव प्रक्रिया विधिवत पूर्ण की गई अध्यक्ष पद के लिए नूतन कलानिकेतन के सदस्य अजय उपाध्याय चंद्रभान मंडलवार सहित रूप कुमार वन वाले के द्वारा नामांकन पत्र दाखिल किए गए थे जिसमें से श्री मंडलवार ने अपना नामांकन वापस ले लिया अध्यक्ष पद के लिए कुल 74 सदस्यों के द्वारा अपने मतों का प्रयोग किया गया जिसमें अजय उपाध्याय को 23 मत प्राप्त हुए वही रूप कुमार वन वाले को 49 मत प्राप्त हुए । इस तरह वे 26 मतों से अध्यक्ष पद के लिए निर्वाचित हुए वही 2 मत निरस्त किए गए थे।
74 सदस्यों ने अपने मताधिकार का किया प्रयोग
नूतन कला निकेतन में रविवार को दोपहर 1:00 बजे से मतदान प्रक्रिया विधिवत आरंभ की गई निर्वाचन अधिकारी वीणा रामेकर और सहायक निर्वाचन अधिकारी कमल किशोर राउत की मौजूदगी में शासन के नियमों के तहत मतदान प्रक्रिया शुरू हुई जिसमें संस्थान के 74 सदस्यों के द्वारा अपने मताधिकार का प्रयोग किया गया जहां सदस्यों के द्वारा अध्यक्ष पद के लिए पसंदीदा उम्मीदवार का नाम मतदान पर्ची में दर्ज कर उसे मतदान पेटी में डाला गया और यह पूरी प्रक्रिया को अपनी तरीके से संपन्न कराई गई इस दौरान संस्था के तमाम सदस्य मौके पर मौजूद रहे इसके पश्चात दोपहर 4:00 बजे तक मतगणना निर्वाचन अधिकारियों की मौजूदगी में की गई जिसमें अजय उपाध्याय को 23 मत प्राप्त हुए वहीं 49 मत रूप कुमार वनवाले को प्राप्त हुए इस तरह 26 मतों से श्री बनवाले निर्वाचित हुए।
शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हुए चुनाव -निर्वाचन अधिकारी
इस संदर्भ में पद्मेश न्यूज़ से चर्चा के दौरान निर्वाचन अधिकारी वीणा रामेकर ने बताया कि नूतन कला निकेतन के 3 वर्षीय कार्यकाल के लिए अध्यक्ष पद का चुनाव विधिवत संपन्न कराया गया है जिसमें 26 मतों से रूप कुमार वनवाले निर्वाचित हुए हैं शासन के नियम के मुताबिक निर्वाचन प्रक्रिया अपनाई गई थी जिसमें सदस्यों के द्वारा द्वारा गोपनीय मतदान किया गया और मतगणना के समय संस्थान के तमाम सदस्य मौजूद थे जिनकी मौजूदगी में मतगणना की गई वही अजय उपाध्याय को 23 मत प्राप्त हुए और 2 मत निरस्त किए गए इस तरह 74 मतदाताओं के द्वारा अपने मताधिकार का प्रयोग किया गया। निर्वाचित अध्यक्ष आम सभा के सामने जिला कार्यकारिणी का गठन करेंगे जिनके द्वारा 3 वर्षों तक संस्था के विकास को लेकर सकारात्मक कार्य किए जाएंगे।
योजनाबद्ध तरीके से संस्था का किया जाएगा विकास -रूप कुमार वनवाले
नूतन कला निकेतन के नवनिर्वाचित अध्यक्ष रूप कुमार वनवाले ने कहा कि संस्था के चुनाव की प्रक्रिया हर 3 साल में होती है और नूतन कला निकेतन का यह विधान है कि हर 3 साल में अध्यक्ष का चयन किया जाता हैं संस्था के जितने सदस्य उनके ही द्वारा अध्यक्ष के लिए नाम प्रस्तावित किया जाता है लेकिन इस बार अध्यक्ष पद के लिए अधिक दावेदार होने के कारण शासन की नीतियों का पालन करते हुए गुप्त मतदान कराया गया उन्होंने कहा कि उन्हें अध्यक्ष के तौर पर निर्वाचित किया गया है और उनकी पहली प्राथमिकता यही रहेगी कि वह संस्था के विकास को ध्यान में रखते हुए उसकी प्रगति करें उन्होंने कहा कि नूतन कलानिकेतन 65 साल पुरानी संस्था है और एक जीवित संस्था है वैसे तो कई ऐसी संस्थाएं हैं जो 100 साल से संचालित है लेकिन केवल कागजों में ही यह संस्थाएं जीवित है जबकि नूतन कलानिकेतन सामाजिक शिक्षा क्रीड़ा खेलकूद संगीत लोक कला को आगे बढ़ाने में अहम भूमिका अदा की है हमारे द्वारा लोक कला के अंतर्गत ढन्ध्यार को दिल्ली और भोपाल तक पहुंचाने का प्रयास किया है जिसमें वह सफल भी हुए हैं उन्होंने कहा कि हमें जो 3 साल मिले हैं इस 3 साल में उन्हें योजनाओं को क्रियान्वित किया जाएगा जो अब तक शेष बची हुई थी उन्होंने कहा कि नूतन कला निकेतन को हम प्रशिक्षण संस्थान के तौर पर विकसित करना चाहते हैं जहां नृत्य नाटक आदि की ट्रेनिंग प्रदान की जाए उन्होंने कहा कि समय-समय पर नूतन कला निकेतन में वर्कशॉप आयोजित की जाती है और हमारी यही कोशिश है कि कच्ची पुरी कुचिपुड़ी छाऊ सहित अन्य नृत्य विधाओं के लिए शिविर का आयोजन किया जाए और कोशिश यही है कि नूतन कला निकेतन लघु नाट्य विद्यालय के स्वरूप को प्राप्त करें जिसके लिए हमारे द्वारा शासन से संस्थान की सुविधा बढ़ाने की मांग की गई है ताकि संस्थान आत्मनिर्भर बन सकें उन्होंने कहा कि 1 सप्ताह के भीतर जिला कार्यकारिणी का गठन कर लिया जाएगा।
गलत नीतियों का हमेशा किया जाएगा विरोध- अजय उपाध्याय
नूतन कला निकेतन के अध्यक्ष पद के लिए अपनी दावेदारी पेश करने वाले अजय उपाध्याय ने दूरभाष पर चर्चा के दौरान कहा कि हमने नीतियों के विरोध में चुनाव प्रक्रिया में भाग लिया था और हमारा यही मानना है कि अध्यक्ष कोई भी बने लेकिन गलत बातों के लिए विरोध करना भी आवश्यक है। यदि संस्था को संचालित करने के दौरान गलत नीतियों को बढ़ावा दिया जाएगा तो इसका हमारे द्वारा हमेशा ही विरोध किया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here