नेपाल और चीन मिलकर नाप रहे हैं माउंट एवरेस्ट की ऊंचाई, वजह जानकर आपको भी होगी हैरानी

0

नई दिल्ली: आपसे भी कभी सामान्य ज्ञान यानि जनरल नॉलेज के सवाल के रूप में पूछा गया होगा कि माउंट एवरेस्ट की ऊंचाई कितनी है, और आपका रटा रटाया जवाब होगा 8848 मीटर। लेकिन जल्द ही उत्तर आपका गलत साबित होने वाला है। जी हां आपने सही सुना, दरअसल माउंट एवरेस्ट की ऊंचाई अब किसी भी समय बदलने वाली है और दो पड़ोसी देश चीन और नेपाल इस काम को अंजाम दे रहे हैं।

चीन और जापान ने दुनिया के सबसे ऊंचे पर्वत को फिर से मापने के लिए हाथ मिलाया है और 2019 के समझौता ज्ञापन के अनुसार, संबंधित टीमों को एक साथ अपने निष्कर्षों की घोषणा करनी है। वास्तव में, घोषणा की उम्मीद पहले से की जा रही थी लेकिन COVID-19 महामारी के कारण इसमें देरी हुई है। जहां चीन ने इस वर्ष मई में अपने सर्वेक्षणकर्ताओं की टीम भेजी थी वहीं, नेपाल का अभियान 2019 में हुआ था।

1955 में मापी गई थी चोटी

 अपेक्षित घोषणा पर भूगर्भीय वैज्ञानिरों के साथ-साथ पर्वतारोहण समुदाय की नजरें टिकी हुई हैं जो इस तरह के घटनाक्रमों पर विशेष नजर रखते हैं। कई दशकों बाद अब नई ऊंचाई के सामने की जल्द उम्मीद है। 1955 में किए गए एक ऐतिहासिक सर्वेक्षण के आधार पर, एवरेस्ट के शिखर की ऊँचाई को 8,848 मीटर या 29,029 फीट के रूप में सूचीबद्ध किया गया है। तब यह शिखर को मापने का सबसे सटीक माप था।

1955 का मानक अभी भी अधिकांश देशों को मान्य

 लगभग 15 साल पहले, एक चीनी अभियान दल ने फिर से चोटी को मापा। उनके निष्कर्ष के अनुसार तब इसकी ऊंचाई 8844.43 मीटर यानि 29,017.16 फीट मापी गई थी। विशेषज्ञों के अनुसार, यह चट्टान के आधार पर था जो एवरेस्ट की चोटी पर स्थित है। बर्फ पड़ने के बाद यह कुछ और मीटर बढ़ जाती है। हालांकि, 1955 के माप को अभी भी अधिकांश देशों द्वारा मानक माना जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here