महिला नक्सली का अंतिम संस्कार

0

जिले के किरनापुर थाना अंतर्गत किन्ही से लगे हुए बोरवन और सिरका के जंगलों में 11 और 12 दिसंबर की दरमियानी रात को पुलिस और नक्सलियों के बीच हुई मुठभेड़ के दौरान मारी गई दो महिला नक्सली में से एक महिला नक्सली सावित्री का अंतिम संस्कार पुलिस द्वारा 21 दिसंबर की शाम को स्थानीय जागपुर घाट में किया गया।

आपको बता दें कि इस मुठभेड़ में दो महिला नक्सली को पुलिस द्वारा मार गिराया गया था। इस दौरान मलाजखंड दलम में सक्रिय शोभा मूलनिवासी गढ़चिरौली और दूसरी महिला नक्सली दरेकसा दलम में सक्रिय सावित्री मूलनिवासी बस्तर छत्तीसगढ़ दोनों इस मुठभेड़ मैं मारी गई थी।

पुलिस द्वारा दोनों मृतक महिला नक्सलियों के परिजनों को सूचना दे दी गई थी जिसके आधार पर 18 दिसंबर को मृतक नक्सली शोभा के परिजन उसका शव का अंतिम संस्कार करने के लिए गडचिरोली ले गए लेकिन दूसरी मृतक महिला नक्सली सावित्री के परिजन नहीं आए जिसके बाद पुलिस द्वारा 21 दिसंबर की शाम को प्रशासन की उपस्थिति में स्थानीय जागपुर घाट में उसका अंतिम संस्कार कर दिया गया।

आपको बता दें कि यह पहला मौका नहीं जब तक नक्सलियों के परिजन उनके शव लेने के लिए नहीं आए इसके पूर्व भी जुलाई 2019 में लांजी के पुजारी टोला में पुलिस नक्सली मुठभेड़ में मारी गई महिला नक्सली नंदे और नवम्बर 2020 में जिले के बैहर थाना अंतर्गत जंगल में मारी गई महिला नक्सली शारदा के परिजन भी उसे लेने नहीं आए थे। इसके बाद पुलिस द्वारा प्रशासन की उपस्थिति में अंतिम संस्कार किया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here