मुस्लिम धर्मावलंबियों का सबसे बड़ा पर्व जश्ने ईद मिलादुन्नबी

0

मुस्लिम धर्मावलंबियों का सबसे बड़ा पर्व जश्ने ईद मिलादुन्नबी शुक्रवार को जिला मुख्यालय सहित अन्य ग्रामीण अंचलों में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया जहां पूरे दिन विभिन्न कार्यक्रमों के आयोजन किए गए हालांकि इस पर्व पर कोविड-19 के चलते प्रशासनिक अनुमति ना होने के कारण नगर में भव्य रूप से आयोजित किया जाने वाला जुलूस ए मोहम्मदी का आयोजन नहीं हुआ।

लेकिन परंपराओं के अनुसार मुस्लिम धर्मावलंबियों द्वारा जुलूसए मोहम्मदी जामा मस्जिद चौक से चांदनी चौक तक निकाला गया जहां फर्स से लेकर अर्श तक या रसूलल्लाह की गूंज सुनाई दी।

नगर में इस पर्व की शुरुआत जामा मस्जिद चौक में परचम कुशाई के साथ की गई जहां सामाजिक बंधुओं की उपस्थिति में प्रति वर्ष के अनुसार इस वर्ष भी पूर्ण विधि-विधान के साथ परचम कुशाई की रस्म अदा की गई वही हाफिजो ,उलेमाओं की प्रमुख मौजूदगी में दुआओं का दौर शुरू हुआ जिसमें सामाजिक बंधुओं ने पूरे देश में अमन चैन शांति व आपसी भाईचारे की दुआएं की।

वही इस खास मौके पर कोरोना संक्रमण से निजात की दुआएं मांगी गई जिसके तुरंत बाद नारा ए तकबीर की सदाओं के साथ  जुलूस ए मोहम्मदी का आगाज किया गया।

  बधाइयों का यह दौर  सुबह से ही देखा गया  वही  जिलेभर में हर्सोल्लास और धार्मिक विधि विधान के साथ मनाए जा रहे इस पर्व में सुरक्षा के भी पुख्ता इंतजाम देखे गए जहां अलसुबह से ही जगह जगह  पुलिस टीम मौजूद रही ।वहीं जिले भर में शांति व आपसी भाईचारे के साथ यह पर्व मनाया गया ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here