रविवार सब्जी बाजार बंद के निर्णय के बाद ठेकेदार का नोटिस हुआ वायरल

0

वारासिवनी(पद्मेश न्यूज)। शासन के द्वारा रविवार का लॉकडाउन हटा दिया गया है लेकिन वारासिवनी में रविवार को सब्जी दुकाने पूर्णत: बंद रहा। नगर मे बीते रविवार को सभी थोक-चिल्लर सब्जी व्यापारियों के सर्वसम्मति से सप्ताह में १ दिन गुमास्ता एक्ट के परिपालन में प्रत्येक रविवार को सब्जी बाजार बंद रखने का निर्णय लेकर ६ सितंबर रविवार को सब्जी बाजार बंद रखा गया था। जिसके बाद एक नोटिस नगर में सोशल मीडिया पर उमाशंकर धार्मिक बाजार ठेकेदार के नाम से वायरल हुआ है उक्त नोटिस नवनियुक्त अध्यक्ष सर्वसंगठन सब्जी समिति, मुख्य नगरपालिका अधिकारी, अनुविभागीय अधिकारी राजस्व, जिला कलेक्टर के नाम का है। जिसमें उल्लेखित है कि नपा द्वारा बाजार ठेका करीब ३२ लाख रूपये में दिया गया है जिसमें प्रतिदिन बाजार से वसूली ८४६५ एवं ३ हजार रूपये कर्मचारी खर्च है इस तरह एक दिन सब्जी बाजार बंद रहने पर ११४६५ रूपये का आर्थिक क्षति ठेकेदार को होगी। जिस पर नोटिस के माध्यम से ठेकेदार ने स्थानीय एवं जिला प्रशासन से क्षति की राशि खाते में समायोजित करने एवं कम करने की मांग की है।
३२ लाख में हुआ है बैठकी व मवेशी बाजार का ठेका
वारासिवनी नगर मुख्यालय में स्थित सब्जी बाजार, बैल बाजार का ठेका नगरपालिका परिषद द्वारा ठेकेदार उमाशंकर उर्फ पन्ना धार्मिक को करीब ३२ लाख रूपये में दिया गया है जिन्हे १ वर्ष का समय दिया जाता है लेकिन इस वर्ष कोरोना वैश्यिक महामारी के चलते २२ मार्च से पूरे देश में लॉकडाउन लग गया था जिसके कारण पूरे भारत देश में सभी प्रतिष्ठान व दुकाने बंद रही है इस दौरान ठेकेदार द्वारा किसी प्रकार की वसूली नही की गई। प्रदेश सरकार द्वारा अनलॉक करने के बाद रविवार का लॉकडाउन रहता था उसे भी हटा दिया गया है अब सप्ताह के ७ दिनों बाजार क्षेत्र खुला रहेगा। वारासिवनी नगर के थोक-चिल्लर सब्जी व्यापारियों के द्वारा रविवार को लॉकडाउन हटने के बाद भी सर्वसम्मति से प्रत्येक रविवार को गोमास्ता एक्ट के परिपालन में दुकान बंद रखने का निर्णय लिया गया है और ६ सितंबर रविवार को सब्जी बाजार पूर्णत: बंद रहा जिससे ठेकेदार को एक दिन का ११४६५ रूपये का नुकसान हुआ है। ठेकेदार श्री धार्मिक ने अधिवक्ता के माध्यम से नगरपालिका प्रशासन को नोटिस भेजकर एक वर्ष में आने वाली रविवार की राशि ठेके की राशि में कम एवं खाते में समायोजित करने की मांग की है क्योंकि रविवार को सब्जी दुकाने बंद रहेगी तो वसूली नही हो पायेगी जिससे ठेकेदार को एक दिन में वसूली के ८४६५ रूपये एवं कर्मचारी पर खर्च ३००० रूपये होता है इस तरह कुल ११४६५ रूपये का नुकसान होगा।
प्रशासन क्षति की राशि करे समायोजित
विदित हो कि बाजार ठेकेदार श्री धार्मिक द्वारा अधिवक्ता के माध्यम से स्थानीय एवं जिला प्रशासन व सब्जी व्यापारियों को वारासिवनी नगर में रविवार को थोक-चिल्लर सब्जी संघ को नोटिस दिये जाने की जानकारी जोरों से वायरल हो रही है किन्तु अधिवक्ता के द्वारा सिर्फ प्रशासन को पक्षकार की ओर से नोटिस जारी कर प्रत्येक रविवार को होने वाली नुकसान की राशि कम करने एवं १५ दिवस के अंदर आर्थिक क्षति की राशि खाते में समायोजित करने की मांग की है उक्त राशि समायोजित नही होने पर बाजार ठेकेदार के द्वारा कोर्ट में अपनी याचिका दायर भी की जायेगी।
प्रत्यक्ष रूप से नोटिस नही मिला – जगदीश सेवलानी
पदमेश से चर्चा में सर्वसंगठन सब्जी समिति अध्यक्ष जगदीश सेवलानी ने बताया कि सर्वसम्मति से रविवार के दिन सब्जी दुकाने बंद रखी गई थी किसी प्रकार का प्रत्यक्ष रूप से नोटिस नही मिला है। श्री सेवलानी ने बताया कि सोशल मीडिया के माध्यम से नोटिस मिला है किन्तु प्रत्यक्ष रूप से किसी ने नोटिस नही भेजा है, मिलने पर जवाब दिया जायेगा साथ ही यह भी बताया कि समिति के निर्णय के अनुसार प्रत्येक रविवार को सब्जी दुकाने बंद रहेगी।
सब्जी व्यापारी से नही शासन से है लड़ाई – उमाशंकर धार्मिक

पदमेश से चर्चा में बाजार ठेकेदार उमाशंकर धार्मिक ने बताया कि १ अप्रैल २०२० से एक वर्ष का ३२ लाख रूपये में बाजार का ठेका हुआ है लेकिन दो माह लॉकडाउन रहा, बाजार खुली नही जिसके बाद नपा से पत्र आया कि १ जून २०२० से बाजार का अनुबंध करे हमने कहा कि दो माह बढ़ाया जाये अप्रैल, मई में लॉकडाउन रहा तो प्रशासन ने कहा कि शासन को पत्र भेजेगें जबकि लॉकडाउन में नुकसान हुआ है । श्री धार्मिक ने बताया कि दो माह की अवधि बढ़ाने एवं रविवार लॉकडाउन प्रतिदिन के हिसाब से राशि अनुबंध में कम करने की मांग की जा रही है और रविवार का लॉकडाउन हटने के बाद सब्जी व्यापारियों ने रविवार को दुकाने बंद करने का निर्णय लिया है वे स्वतंत्र है किन्तु हमने नपा से ठेका लिया है इसलिए नपा प्रशासन से मांग करते है कि रविवार को बाजार बंद रहने से प्रत्येक रविवार ११ हजार रूपये का नुकसान होगा इसलिए क्षति राशि ठेके के अनुबंध से कम या खाते में समायोजित करे एवं सब्जी व्यापारी संघ अध्यक्ष का जो नाम नोटिस में है वह गलती से आ गया होगा उसमें सुधार किया जायेगा और यह लड़ाई सब्जी व्यापारियों से नही शासन से है।
इनका कहना है

बाजार ठेका संबंधित मामले में किसी प्रकार का नोटिस प्राप्त नही हुआ है, नोटिस प्राप्त होता है तो नोटिस के अनुसार कार्यवाही की जायेगी।
राधेश्याम चौधरी
सीएमओं
नगरपालिका परिषद वारासिवनी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here