वार्डवासियो΄ ने पोस्ट मार्टम के लिए लाये शव का किया विरोध

0

वारासिवनी(पद्मेश न्यूज)। नगर के वार्ड नं. ९ अयोध्या बस्ती जो रहवासी क्षेत्र है जहां बहुत पुराना शव विच्छेदन गृह है जहां मृत शवों का पोस्ट मार्टम किया जाता था। ३० सितंबर को माझापुर निवासी ३० वर्षीय भाग्यश्री उइके का शव पोस्ट मार्टम के लिए लाया गया था जिसे देखकर वार्डवासी आक्रोशित होकर शव का पोस्ट मार्टम करने का विरोध करते हुए अन्यंत्र स्थान पर शव विच्छेदन गृह निर्माण एवं उक्त शव विच्छेदन गृह को हटाने की मांग की। मृत युवती के शव का पोस्ट मार्टम शव विच्छेदन गृह में नही करने देने का विरोध वार्डवासियों के द्वारा किये जाने की जानकारी पुलिसकर्मियों को लगी तो पुलिसकर्मी द्वारा वार्डवासियों को समझाईश देकर कहा गया कि जब तक नया शव विच्छेदन गृह नही बन जाता तब तक यहां ही पोस्ट मार्टम किया जायेगा उसके बाद वार्डवासियों का आक्रोश शांत हुआ जिसके बाद मृत युवती का पोस्ट मार्टम कर पुलिस ने शव परिजनों को सौंप दिया।
रहवासी क्षेत्र मे΄ है शव विच्छेदन गृह

नगर के वार्ड नं. ९ अयोध्या बस्ती में शव विच्छेदन गृह है जहां मृत व्यक्तियों का पोस्टमार्टम किया जाता है जिसको लेकर पिछले लंबे समय से वार्डवासियों के द्वारा मांग की जा रही है कि उक्त शव विच्छेदन गृह को रहवासी क्षेत्र से हटाकर अन्यंत्र स्थान पर निर्माण किया जाये जिसकी कार्यवाही बीते दो-तीन वर्षों से चल रही है किंतु वर्तमान तक कोई स्थान का चयन नही किया गया है और वार्ड नंबर ९ में पोस्टमार्टम किया जा रहा है। जहां पर पूर्व में पूरा खाली स्थान था किंतु नगर की आबादी बढ़ते ही उक्त स्थान पर भी लोगों ने मकान बनाकर रहना प्रारंभ कर दिया और अयोध्या बस्ती बस चुकी है। गत दिनों पूर्व शव विच्छेदन गृह के आसपास सफाई की गई है और जिसकी बाउंड्री वाल वर्ष २००९ में धराशाही हो गई थी जिसका स्वास्थ्य विभाग की ओर से गत दिवस मरम्मत कार्य प्रारंभ किया गया था जिसका वार्ड पार्षद एवं वार्डवासियों के द्वारा विरोध भी किया गया था। बुधवार को ग्राम माझापुर निवासी २७ वर्षीय युवती भाग्यश्री पिता रमेश उइके का शव पोस्टमार्टम करने लाया गया जिसे देख वार्डवासियों ने विरोध करना प्रारंभ कर दिया की पोस्टमार्टम यहां नहीं होगा। जिसके बाद शव विच्छेदन गृह में मौजूद आरक्षक व पुलिस अधिकारी के द्वारा वार्डवासियों को समझाइश दी गई कि जब तक नया शव विच्छेदन गृह का निर्माण नहीं हो जाता तब तक यही पोस्टमार्टम होगा क्योंकि यह एक प्रक्रिया है इसे बंद नहीं किया जा सकता और इसके लिए आप कलेक्टर, अनुविभागीय अधिकारी से मांग करें वरना आपके द्वारा किए जा रहे विरोध के लिए आपके ऊपर कड़ी कार्यवाही की जा सकती है इसलिए प्रशासन से मांग करें ना कि शासकीय कार्यवाही में बाधा उत्पन्न करें, जिसके बाद वार्डवासियों का आक्रोश शांत हुआ। वार्डवासियों का आक्रोश शांत होने के बाद चिकित्सक द्वारा मृत युवती का पोस्ट मार्टम कर शव परिजनों को सौंप दिया गया। पदमेश से चर्चा में वार्डवासी श्रीमती प्रर्मिला रोकड़े ने बताया कि शव विच्छेदन गृह मकान से करीब १५ फीट दूर स्थित है जहां रोजाना खराब बॉडी आती है जिनका पोस्ट मार्टम किया जाता है और बॉडी के कपड़े एवं डॉ. के हेंड ग्लब्स उक्त स्थान पर छोड़ दिया जाता है जिसे बच्चे उठाकर खेलने लगते है जिससे बीमारी होने का प्रकोप बढ़ रहा है, गंदगी भी हो रही है। श्रीमती रोकड़े ने बताया कि मकान के समीप शव विच्छेदन गृह नजदीक होने के कारण सदैव मन में डर बना रहता है प्रशासन से मांग अन्यंत्र स्थान पर नवीन शव विच्छेदन गृह क निर्माण किया जाये जिसके लिए शासन से राशि भी जारी हो गई है उसके बाद भी निर्माण नही किया जा रहा है। चर्चा में बीएमओं डॉ. रविन्द्र ताथोड़ ने बताया कि नये शव विच्छेदन गृह जब तक नही बन जाता वहीं शव का पोस्ट मार्टम किया जायेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here