संदिग्ध स्थिति में मृत व्यक्ति की लाश का उत्खनन करवाकर किया गया पोस्टमार्टम

0

बालाघाट (पद्मेश न्यूज)। कोतवाली पुलिस ने नर्मदा नगर में संदिग्ध स्थिति में मृत व्यक्ति की ग्राम मिरगपुर थाना तिरोड़ी में दफन की गई लाश का उत्खनन करवाकर उसका पोस्टमार्टम करवाया। मृतक व्यक्ति तपेश/सुरेन्द्र भौरजार ३५ वर्ष मिरगपुर निवासी है। कोतवाली पुलिस मर्ग कायम कर जांच कर रही है। पत्नि द्वारा पोस्टमार्टम करवाने से इंकार करने पर भाई तपेश की मौत संदेहास्पद बनने के उपरांत उसके भाई ने कोतवाली बालाघाट में मृतक तपेश की लाश का पोस्टमार्टम करवाने रिपोर्ट की थी। जिसके उपरांत कोतवाली पुलिस ने यह उत्खनन कार्यवाही की।
प्राप्त जानकारी के अनुसार तपेश भौरजार तीन भाई है। जिनमें तपेश मौरजार बड़ा है। आशीष भौरजार मंझला है और राकेश छोटा भाई है। बताया गया है कि तपेश मौरजार पत्नि सविता के साथ नर्मदानगर बालाघाट में किराये से रहता था और वह रायपुर राजनांदगांव में ट्रांसपोर्ट का काम करता था। तपेश का मझला भाई आशीष भौरजार भी तीन वर्ष से रायपुर में रहकर ट्रांसपोर्ट का काम करता था। बताया गया है कि तपेश भौरजार ने पहली पत्नि सविता की कोई संतान नहीं होने से उसने दो वर्ष पहले रायपुर की लड़की से शादी कर ली थी और साथ में रहते थे। जिनकी एक डेढ़ वर्ष की बेटी भी है। डेढ़ माह पहले तपेश भौरजार की दूसरी पत्नी उसे छोड़कर कहीं चली गई है। जिसके बाद तपेश भौरजार अपने डेढ़ वर्ष की बेटी के साथ ही रहता था। १८ सितम्बर को दिन में तपेश भौरजार अपनी बेटी को लेकर मोटर सायकल में नर्मदा नगर बालाघाट अपनी पहली पत्नि सविता के पास आया था किन्तु उसी दिन रात्रि ९ बजे तपेश की नर्मदा नगर में संदिग्ध स्थिति में मौत हो गयी। १९ सितम्बर को $खबर मिलते ही रायपुर से तपेश का मझला भाई आशीष भौरजार बालाघाट आया और अपने भाई तपेश की लाश देखा शरीर नीला पड़ गया था। जिसके मुंह, कान से खून निकल रहा था। तब आशीष ने अपनी भाभी से पूछा तब उसने बतायी कि रात में खाना खाकर बिस्तर में सो गये थे। अचानक दांत जमा लिये थे और शरीर ठण्डा पड़ गया था एम्बुलेंस बुलायी तब तक मौत हो चुकी थी। आशीष ने अपनी भाभी सविता से बोला के भाई की लाश का पोस्टमार्टम करवा लेते है तो वह पोस्टमार्टम करवाने से इंकार कर गई। जिसके बाद उसी दिन तपेश ने अपने भाई आशीष की लाश एम्बुलेंश को अपने गांव मिरगपुर ले गया।
बताया गया है कि ग्राम मिरगपुर में तपेश भौरजार के अंतिम संस्कार के समय विवाद की स्थिति बन गई। आशीष की भाभी सविता का कहना था कि लाश को जलाई जाय किन्तु आशीष का कहना था कि लाश दफन की जायेगी, दोनो के बीच विवाद स्थिति बन गई जिसके बाद तपेश की लाश दफन कराकर अंतिम संस्कार किया गया। इस दौरान तपेश के मुंह, कान से खून निकलने से आशीष को संदेह हो गया की भाई तपेश के साथ कुछ घटना हुई है उसने भाई तपेश की लाश दफन करवाया। २२ सितम्बर को आशीष भौरजार कोतवाली पहुंचा और अपने भाई तपेश की मौत पर शक व्यक्त करते हुए उसकी मौत का सही कारण जानने के लिए पोस्टमार्टम करवाने के लिए रिपोर्ट कर दी। २४ सितम्बर कोतवाली बालाघाट से सहायक उपनिरीक्षक देवकण्ठ सोनी अपने हमराह आरक्षक सुरेन्द्र पारधी, शिशुपाल के साथ ग्राम मिरगपुर पहुंचे और तिरोड़ी पुलिस के सहयोग से खैरलांजी के नायब तहसीलदार सतीश कुमार चौधरी की उपस्थिति में तपेश की लाश का उत्खनन करवाया चिकित्सक की टीम ने तपेश भौरजार की लाश का मौके पर ही पोस्टमार्टम करवाये और पुन: दफन कर दिये अब आगे पोस्टमार्टम रिपोर्ट से ही स्पष्ट हो पायेगा की तपेश भौरजार की मौत कैसे हुई। सहायक उपनिरीक्षक श्री सोनी द्वारा आगे मर्ग जांच की जा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here