20 दिन मे΄ मिले 421 पॉजीटिव्ह मरीज

0

बालाघाट (पद्मेश न्यूज)। बालाघाट जिले के भीतर कोरोना अपना भयावह रूप लेता जा रहा है। भले ही स्वास्थ्य विभाग अब पूरे मामले पर ज्यादा कुछ ना कहें लेकिन लगातार पॉजीटिव्ह मरीज के आंकड़े डराने लगे हैं। यही नहीं जिले के भीतर कोरोना कम्युनिटी स्प्रेड का खतरा बढऩे लगा है। एक संक्रमित मरीज के संपर्क में आने से कई लोग संक्रमित हो रहे हैं। तभी तो महज 20 दिनों के भीतर जिले में 421 नए कोरोनावायरस मरीज मिले हैं जिसके साथ अब जिले में यह आंकड़ा 721 से अधिक पहुंच गया है।
सोचने के लिए मजबूर कर रहे आंकड़े
निश्चित ही अब जिले वासियों को बहुत अधिक बहुत ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत है। क्योंकि महज 20 दिन के आंकड़े सभी को सोचने के लिए मजबूर कर रहे हैं।1 सितंबर तक जिले के भीतर पॉजीटिव्ह मरीजो की संख्या 300 थी। 5 सितंबर तक यह संख्या 348 पहुंच गई मतलब 1 सितंबर से 5 सितंबर के बीच कुल 48 मरीज मिले।
5 सितंबर से तेजी से बढ़े मरीज

5 सितंबर से 10 सितंबर के बीच यह आंकड़ा बड़ी तेजी से बड़ा जिले में कुल 124 नए पॉजीटिव्ह मरीज मिले। जिससे यह आंकड़ा 472 पर पहुच गया।10 सितंबर से 15 सितंबर के बीच भी तेजी से कोरोनावायरस बढ़ता गया नतीजा इन 5 दिनों के भीतर पूर्व की तरह 125 मरीज मिले। उसके बाद 15 सितंबर को कुल पॉजीटिव्ह मरीजों की संख्या 608 हो गई।
बहुत से सैंपल की रिपोर्ट आना बाकी
हालांकि 15 से 20 सितंबर के बीच जिले के भीतर कुल 113 मरीज मिले लेकिन स्वास्थ्य विभाग से मिल रही जानकारी के अनुसार इन 5 दिनों के भीतर भेजे गए सेम्पल की बहुत सारी रिपोर्ट आना बाकी है जिसके बाद यह आंकड़ा और अधिक बढ़ सकता है इस तरह 20 सितंबर तक जिले के भीतर कुल 764 मरीज सामने आ चुके हैं।
तेजी से बढ़ती संख्या के कारण अब कांटेक्ट हिस्ट्री पर ध्यान नहीं दे रहा विभाग
पूर्व में स्वास्थ्य विभाग हर एक मरीज की कांटेक्ट हिस्ट्री जानता था उसे आम जनता तक भिजवाता था लेकिन अब पॉजीटिव्ह मरीजों की संख्या इतनी अधिक बढ़ गई है कि कौन कहां से पॉजीटिव्ह हो रहा है पता ही नहीं चल रहा है इस कारण स्वास्थ्य विभाग अब कॉन्टैक्ट हिस्ट्री पर ध्यान नहीं दे रहा है।
सुधर रहा मरीजों के सुधरने का रेट
हालात यहां तक खराब है कि जिले के भीतर बेहतर कोविड हॉस्पिटल नहीं है जिस कारण लोगों को घर पर रहकर ही कोरोना जैसी महामारी का इलाज करवाना पड़ रहा है। इस सारी नेगेटिविटी के बीच एक बात अच्छी है कि मरीजों के सुधारने का रेट लगातार सुधरते जा रहा है।
स्वयं सुरक्षा का रखें ध्यान

वहीं दूसरी और एक दुखद खबर यह भी है कि जिले के बाहर इलाज के लिए जाने वाले बहुत से लोग इलाज के दौरान संक्रमित हुए और उनकी असमय मृत्यु हो गई। इसीलिए एक बार फिर बहुत अधिक जरूरी हो तभी घरों से बाहर निकले, घरों से बाहर निकलते समय मुंह पर सुरक्षित तरीके से मास्क पहने। किसी भी स्थान पर हाथ लगाने पर उसे तुरंत सेनेटाइज करें और लोगों से दो गज की दूरी बनाएं।कोरोना के टीके के आने तक इस तरह की सुरक्षा अपनाकर आप संक्रमित होने से बच सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here