9वीं और 11वीं में विशिष्ट और सामान्य भाषा खत्म कर एक समान होगी

0

स्कूल शिक्षा विभाग ने मप्र बोर्ड की इस सत्र से 9वीं से 12वीं तक के कई विषयों को राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (एनसीईआरटी) की किताबें लागू कर है। 2020-21 व 2021-22 तक में 9वीं से 12वीं तक की सभी किताबें एनसीईआरटी की लागू कर दी जाएगी।

इस सत्र में 9वीं व 11वीं में हिंदी, अंग्रेजी, संस्कृत व उर्दू भाषा की किताबें एनसीईआरटी की ली गई है। इस संबंध में माध्यमिक शिक्षा मंडल ने गुरुवार को आदेश जारी किया है कि इस सत्र से 9वीं एवं 11वीं के सभी विषय एनसीईआरटी की किताबों से पढ़ाए जाएंगे।

अब इन कक्षाओं से विशिष्ट हिंदी एवं विशिष्ट अंग्रेजी की किताबें चलन से बाहर हो गई हैं, यानि सिर्फ एक हिंदी व अंग्रेजी होंगी। वहीं 10वीं और 12 वीं में भाषा को अगले सत्र से बदले जाने का प्रस्ताव है। इस सत्र में केवल 10वीं और 12 वीं विशिष्ट अंग्रेजी एवं हिंदी रह गई है।

बोर्ड ने जारी आदेश में 9वीं से 12वीं तक में एनसीईआरटी की किताबों के उपयोग का उल्लेख करते हुए 31 पाठ्यपुस्तकों की सूची जारी की है। हालांकि यह इस सत्र के प्रारंभ से व्यवहारिक रूप से पालन हो रहा है, लेकिन आदेश स्पष्टता के लिए जारी किए गए।

पहले से ही गणित व विज्ञान एनसीईआरटी की लागू

9वीं से 12 वीं तक गणित, विज्ञान, सामाजिक विज्ञान पिछले सत्र से ही एनसीईआरटी से पढ़ाया जा रहा था। इसके बाद इस सत्र में अन्य विषयों को बदला गया है जिससे सभी विषयों में एनसीईआरटी की पढ़ाई हो गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here