MP में नमामि देवी नर्मदे योजना में भी घोटाला, पौधे लिए बिना ही दो करोड़ रुपये का भुगतान

0

मध्य प्रदेश के उद्यानिकी विभाग की यंत्रीकरण योजना में घोटाले के बाद इसी विभाग की एक और योजना में दो करोड़ रुपये का घोटाला सामने आया है। यह नमामि देवी नर्मदे योजना-2016 से संबंधित है। यह मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के पिछले कार्यकाल की महत्वाकांक्षी योजना रही है। उद्यानिकी विभाग के ही एक अधिकारी ने दिसंबर 2019 में इसमें अनियमितता को लेकर राजभवन को शिकायत की थी।

मार्च 2020 में संयुक्त संचालक (उद्यान), जबलपुर संभाग मनोज मेश्राम ने जांच शुरू की। छह माह की जांच के बाद उन्होंने रिपोर्ट उद्यानिकी संचालनालय को सौंप दी है। इसमें सामने आया है कि निजी नर्सरी संचालकों को अधिकारियों ने उन पौधों के लिए भी भुगतान कर दिया है, जिसकी आपूर्ति ही नहीं की गई। केवल कागजों पर आपूर्ति दिखा दी गई। करीब ढाई लाख पौधे नर्सरी से लिए गए ही नहीं।इसके एवज में दो करोड़ रुपये का भुगतान भी कर दिया गया।

पौधारोपण के लिए थी योजना

इसके तहत पूरे प्रदेश में जिन क्षेत्रों से नर्मदा नदी गुजरी है, वहां दोनों किनारों पर एक किमी के दायरे में पौधारोपण किया जाना था। इसके लिए 550 करोड़ रुपये का बजट आवंटित किया गया था। इसमें से 41 करोड़ रुपये से पौधों की खरीदी होनी थी। गौरतलब है कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने इस योजना के तहत ही सर्वाधिक पौधे लगाने का दावा गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज कराने के लिए किया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here