PM मोदी ने 9 हाइवे प्रोजेक्ट के साथ घर तक फाइबर योजना का किया शिलान्यास

0

पटना : विधानसभा चुनाव से पहले बिहार को सौगात मिलने का सिलसिला जारी है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज बिहार को करीब 14 हजार करोड़ रुपये की सौगात दी. पीएम मोदी ने 9 हाइवे प्रोजेक्ट के साथ बिहार के करीब 46 हजार गांवों को ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क से जोड़ने के लिए घर तक फाइबर योजना का उद्घाटन किया.

बिहार की इन योजनाओं में 14,000 करोड़ रुपये की 9 राजमार्ग परियोजना और 45,945 गांवों को ऑप्टिकल फाइबर इंटरनेट सेवाओं से जोड़ने वाला ‘घर तक फाइबर’ कार्यक्रम शामिल है.

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि इन परियोजनाओं के लिए बिहार को बधाई देता हूं. यह बिहार के लिए बड़ा लेकिन आज का दिन भारत के लिए भी बड़ा दिन है. भारत को आत्मनिर्भर बनाने की शुरुआत बिहार से हो रही है. एक दिन में बिहार के 45 हजार गांवों को ऑप्टिकल फाइबर से जोड़ा जाएगा.

पीएम ने कहा कि भारत के गांवों में इंटरनेट का इस्तेमाल करने वालों की संख्या शहरी लोगों से ज्यादा हो जाएगी, ये सोचना मुश्किल था. गांव के लोगों पर सवाल उठाए जाते थे. भारत डिजिटल ट्रानजेक्शन के मामले में दुनिया में आगे हैं. डिजिटिल भारत ने देश के सामान्य जन की बहुत मदद की है.

पीएम ने कहा कि देश के गांवों में तेज रफ्तार वाला इंटरनेट होना चाहिए. अभी तक 1.50 लाख पंचायतों तक ऑप्टिकल पहले ही पहुंच चुका है.

इस अवसर पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इन योजनाओं के लिए पीएम मोदी का आभार प्रकट किया. नीतीश कुमार ने कृषि बिल को लेकर भी अपनी राय जाहिर की. उन्होंने कहा कि रविवार को राज्यसभा में जो हुआ वह गलत है. ये विधेयक किसानों के हित है. नीतीश कुमार ने कहा कि बिहार में एपीएमसी एक्ट हटाते वक्त बिहार विधानमंडल में भी विपक्ष ने खुब हंगामा किया था. विपक्ष के लोग सदन छोड़कर भाग गए थे, लेकिन हम कानून लेकर आए. अब इस कानून को देश स्तर पर बनाया जा रहा है.

नीतीश कुमार ने कहा कि गाजीपुर से बक्सर दूर नहीं है. अगर बक्सर को गाजीपुर को हाइवे के जरिये जोड़ दिया जाए तो बिहार पूर्वांचल एक्सप्रेसवे के जरिये दिल्ली से जुड़ जाएगा. मेरा आग्रह है कि बक्सर को गाजीपुर से जोड़ा जाए. सीएम ने कहा कि लखनऊ से गाजीपुर तक आई 8 लेन सड़क को बक्सर से जोड़ दिया जाए. ये मेरा प्रधानमंत्री से आग्रह है. इसे काम को पूरा किए जाने से बिहार को काफी फायदा होगा. गाजीपुर से बक्सर की दूरी सिर्फ 17-18 किलोमीटर है.

नीतीश कुमार से पहले बिहार के डिप्टी सीएम सुशील मोदी ने कहा कि राज्य में सबसे अधिक सड़क निर्माण पर खर्च किया जा रहा है. आज की योजनाओं में भी इसी पैकेज का पैसा खर्च किया जा रहा है. आने वाले दिनों में गंगा पर 17 पुल देखने को मिलेंगे. कोसी नदी पर 53 साल में केवल एक पुल बना.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here