ठेकेदार नहीं कर रहा बारदानों की सप्लाई, ब्लैक लिस्टेड कर लगाएंगे पेनाल्टी

0

जिले में गेहूं उपार्जन केंद्रों पर बारदाने की कमी के कारण आए दिनों गेहूं खरीदी प्रभावित होने व संबंधित ठेकेदार द्वारा बारदाने खरीदी केंद्रों पर नहीं पहुंचाने के चलते अब संबंधित ठेकेदार को ब्लैकलिस्टेड करने के लिए प्रस्ताव भोपाल भेजा जाएगा व साथ ही निश्चित पेनाल्टी भी लगाई जाएगी। इसके अलावा अब सप्लाई के लिए समितियों को स्वतंत्रा प्रदान की है साथ ही अन्य द्वारप्रदाय ठेकेदार भी ऐसा कर सकते हैं।

उल्लेखनीय है कि जिले में 116 केंद्रों पर इन दिनों समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीदी की जा रही है। ऐसे में अधिकांश केंद्रों पर संबंधित ठेकेदार द्वारा नियमित रूप से बारदाने की सप्लाई नहीं की जा रही है। जिसके चलते कई बार खरीदी बंद होने तक की नौबत आ चुकी है। ऐसे में बुधवार को यह तय किया गया है कि उक्त एजेंसी को फिर से ब्लैकलिस्टेड किया जाए व साथ ही उस पर पेनाल्टी भी लगाई जाए। इसके लिए अब नागरिक आपूर्ति निगम द्वारा पेनाल्टी की राशि काउंट कर पेनाल्टी लगाई जाएगी व उसको ब्लैक लिस्टेड करने के लिए भोपाल प्रस्ताव भेजा जाएगा।

अब समितियों चाहें तो ला सकती है बारदाने

पिछले करीब एक सप्ताह से बारदाने की सप्लाई ग़डबड़ाने के चलते कई समितियों द्वारा अपने निजी व्यय पर ही समितियों के लिए बारदाने का उठाव करवाया जा रहा था। ऐसे में अब यह तय किया गया है कि यदि गेहूं खरीदी करने वाली समितियां चाहें तो वह बारदाने का उठाव स्वयं करा सकती है। बारदाने उठवाने की एवज में उन्हें तय राशि से भुगतान कर दिया जाएगा। जो भुगतान पहले ठेकेदार को किया जा रहा था अब वह उन समितियों को कर दिया जाएगा। इसके अलावा जिले के अन्य ग्रामीण क्षेत्रों में शासकीय उचित मूल्य की दुकानों पर द्वार प्रदाय के तहत जो ठेकेदार अलग-अलग तहसीलों में काम कर रहे हैं उनसे यह बारदाने की सप्लाई कराई जाएगी। उसमें भी राजगढ़ ब्लाक में द्वाार प्रदाय की सप्लाई करने वाले ठेकेदार को यह काम नहीं दिया जाएगा। क्योंकि राजगढ़ ब्लाक में द्वार प्रदाय का काम भी उसी ठेकेदार के पास है जिसके पास बारदाने की सप्लाई का ठेका था।

ऑर्डर के साथ मांगते थे पैसे

बारदाने की सप्लाई नहीं करने के पीछे नागरिक आपूर्ति निगम का मानना है कि उन्हें आर्डर के साथ ही पैसों की जरूरत लगती है। नागरिक आपूर्ति निगम के प्रबंधक डीएस कटारे ने बताया कि जब हम गठानों का ऑर्डर देते थे तो वह साथ में भुगतान करने को भी कहते थे। जबकि नियम यह है कि माह पूरा होने पर अगले 10 दिन में पैमेंट करना होता है, लेकिन वह नहीं मान रहे थे। अब उनपर पेनाल्टी लगाई जाएगी व ब्लैक लिस्टेड करने के लिए भोपाल प्रस्ताव भेजा जाएगा।

संबंधित कृष्णा रोड लाइंस को ब्लैक लिस्टेड किया जा रहा है व पेनाल्टी लगाई जा रही है। अब समितियां चाहें तो खुद गठाने उठा सकती है उन्हें भुगतान कर दिया जाएगा। साथ ही दूसरे द्वार प्रदाय ठेकेदारों से बारदाने की सप्लाई कराई जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here