भौतिकी में मनाबे, हेसलमैन और जियॉर्जियो को संयुक्त रूप से मिला नोबेल पुरस्कार

0

रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेस के जनरल सेक्रेटरी, दौरैन हैनसन ने 5 अक्टूबर को फिजिक्स के लिए नोबेल पुरस्कार के विजेताओं के नामों का ऐलान किया। इस साल तीन वैज्ञानिकों को संयुक्त रूप से यह पुरस्कार दिया जाएगा। इनमें जापान के स्युकुरो मनाबे (Syukuro Manabe), जर्मनी के क्लॉस हेसलमैन (Klaus Hasselmann) और इटली के जियॉर्जियो पारिसी (Giorgio Parisi) शामिल हैं। स्यूकुरो मानेबे और क्लॉस हैसलमैन को पृथ्वी की जलवायु के फिजिकल मॉडलिंग, उसमें होने वाले परिवर्तन की मात्रा निर्धारित करना और ग्लोबल वार्मिंग की ज्यादा सटीक भविष्यवाणी से जुड़े कार्यों के लिए यह सम्मान दिया जा रहा है। वहीं जियॉर्जियो को कॉम्प्लेक्स मैटेरियल में छुपे हुए पैटर्न के खोज के लिए ये सम्मान दिया जाएगा।

दो हिस्सों में बांटा गया नोबेल पुरस्कार

इस साल फिजिक्स के लिए नोबेल पुरस्कार को दो हिस्सों में बांट कर दिया गया है। पहले आधे हिस्से में स्यूकुरो मानेबे और क्लॉस हैसलमैन को संयुक्त रूप से उनके कार्यों के लिए नोबेल पुरस्कार दिया गया है। जबकि पुरस्कार का दूसरा आधा हिस्सा जियॉर्जियो पारिसी को उनके खोज के लिए दिया गया है। आपको बता दें कि साल 1901 से चल रहे इस पुरस्‍कार को तहत जीतनेवाले व्‍यक्ति को एक गोल्‍ड मेडल के साथ 1.14 मिलियन डॉलर नकद दिए जाते हैं।

किसका क्या है योगदान?

मानेबे ने अपने रिसर्च के जरिए बताया कि किस तरह वातावरण में कार्बन डाइऑक्साइड की बढ़ी हुई मात्रा धरती की सतह का तापमान बढ़ाती है। वहीं क्लॉस हैसलमैन ने एक ऐसा मॉडल बनाया जो मौसम और जलवायु को जोड़ता है। उनके द्वारा विकसित तरीकों (Methods) से पता चलता है इंसानों द्वारा उत्सर्जित कार्बन डाइऑक्साइड से वातावरण का तापमान बढ़ता है। दूसरी ओर जियोर्जियो ने कॉम्प्लेक्स मैटेरियल्स में छिपे हुए पैटर्न का पता लगाया। उनकी खोज कॉम्प्लेक्स सिस्टम की थ्योरी के लिए बड़ा योगदान मानी जाती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here