Republic Day: मिलिए 26 जनवरी परेड में हिस्सा लेने वाली पहली महिला फाइटर पायलट भावना कंठ से

0

भारतीय वायुसेना (IAF) की पहली महिला फाइटर पायलट फ्लाइट लेफ्टिनेंट भावना कंठ 26 जनवरी परेड में भी हिस्सा लेंगी. वह गठतंत्र दिवस समारोह (Republic Day) में हिस्सा लेने वाली पहली महिला फाइटर पायलट (First Women Fighter Pilot) होंगी. वह इस साल गणतंत्र दिवस फ्लाईपास्ट का हिस्सा बनेंगी. अधिकारियों ने आज इस बात की जानकारी दी. लेफ्टिनेंट भावना कंठ भारतीय वायु सेना (IAF) में सभी लड़ाकू पायलटों में पहली महिला पायलट है. अवनी चतुर्वेदी और मोहना सिंह के साथ, भावना कांत को भी साल 2016 में पहली महिला लड़ाकू पायलट के रूप में भारतीय वायुसेना में शामिल किया गया था.

बिहार (Bihar) के दरभंगा की रहने वाली लेफ्टिनेंट भावना कंठ का रिफाइनरी टाउनशिप, बेगूसराय में पली बड़ी हैं. बेगूसराय में उनके पिता IOCL में इंजीनियर थे. उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा बरौनी रिफाइनरी डीएवी पब्लिक स्कूल (School) से पूरी की और बेंगलुरु के बीएमएस कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग से मेडिकल इलेक्ट्रॉनिक्स में इंजीनियरिंग की ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी की. भावना कंठ की रुचि बैडमिंटन, वॉलीबॉल और एडवेंचर स्पोर्ट्स में भी बहुत है. इसके साथ ही उन्हें फोटोग्राफी, खाना पकाने, तैराकी और घूमने फिरने का भी बहुत शौक है. पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्हें फाइटर स्ट्रीम (Fighter Stream) चुनने का मौका मिला.

‘डर को छोड़कर अंदर के पायलट को जगाया’

भारतीय वायु सेना में शामिल होने के बाद भावना कंठ ने लड़ाकू विमान किरण पर स्पिन सोलो के अपने पहले अनुभव को याद किया. उन्होंने कहा कि जैसे ही उन्होंने एयरक्राफ्ट के स्पिन में प्रवेश किया और 20,000 फीट पर पहुंचने के बाद उनके मन में शक पैदा होने लगा कि अगर विमान ठीक नहीं हुआ तो क्या होगा. भावना ने उस अनुभव को याद करते हुए कहा कि अगर उस समय उन्होंने यही सोचा कि अगर आज वह ये नहीं करेंगी, तो हमेशा डरती ही रहेंगी. उन्होंने बताया कि डर को पीछे छोड़कर उन्होंने अपने भीतर की फाइटर पायलट को जगाया, और यह विश्वास जताया कि सब ठीक होगा. उन्होंने कहा कि विमान स्पिन से बाहर आ गया, इससे उनका आत्मविश्वास और भी बढ़ गया.

26 जनवरी की परेड में हिस्सा लेंगी भावना कंठ

इस साल राफेल फाइटर जेट भी पहली बार गणतंत्र दिवस परेड में हिस्सा लेने जा रहा है. भारतीय वायु सेना ने में 59,000 करोड़ की लागत के 36 राफेल जेट में से 11 को शामिल किया है. डसॉल्ट ने सात और फाइटर जेट को भारत को सौंप दिया गया है. लेकिन इनका इस्तेमाल फ्रांस में भारतीय वायुसेना के पायलटों को प्रशिक्षण देने के लिए किया जा रहा है. तीन फाइटर जेट्स का तीसरा बैच 27 जनवरी को भारत पहुंचेगा. राफेल्स, एसयू -30 और मिग -29, फाइटर जेट्स भी गणतंत्र दिवस के फ्लाईपास्ट में भाग लेने वाले 45 विमानों में शामिल होंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here