हज के दौरान Saudi Arabia का बड़ा फैसला, मक्का में पहली बार तैनात होगी महिला गार्ड

0

मक्का मदीना Eid al Adha Hajj। महिला सशक्तिकरण की ओर अहम कदम बढ़ाते हुए सऊदी अरब की सरकार ने पहली बार मक्का और मदीना में होने वाली हज यात्रा के दौरान सुरक्षा के लिए कई महिला गार्ड की तैनाती करने का फैसला लिया है। महिला सैनिकों को यात्रियों को सुरक्षा करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक सऊदी महिला सैनिकों को मक्का में स्थित ‘मस्जिद अल हरम’ (Masjid al-Haram) या ग्रैंड मॉस्क में पहरा देते हुए देखा गया और यहां उन्हें काफी सपोर्ट भी मिल रहा है। सेना की पोशाक में महिलाओं को मक्का की ग्रैंड मॉस्क में निगरानी करते देखा गया।

सऊदी अरब में महिला सैनिकों का ड्रेस कोड

मक्का और मदीना में तैनात महिला गार्ड को खाकी वर्दी के साथ एक लंबी जैकेट, ढीली पतलून और अपने बालों को ढंकने वाले कपड़े के ऊपर एक काले रंग की बेरी पहनना होता है। सोशल मीडिया पर सऊदी अरब सरकार के इस फैसले की खूब तारीफ हो रही है। कई लोगों ने इसे महिला सशक्तिकरण की ओर उठाया गया एक महत्वपूर्ण कदम बताया। ट्विटर पर एक यूजर ने महिला गार्ड की फोटो शेयर करते हुए लिखा है कि ‘मक्का के इतिहास में पहली बार हज के दौरान एक महिला सऊदी गार्ड ड्यूटी कर रही हैं.’ वहीं, एक अन्य यूजर ने लिखा, ‘ऐसा करना लंबे समय से बाकी था, आखिरकार ऐसा कर दिया गया। ’

हज यात्रा में कोविड नियमों का सख्ती से हो रहा पालन

हर यात्रा के दौरान कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन करते हुए हजारों वैक्सीनेटेड मुस्लिम तीर्थयात्री हज यात्रा कर रहे हैं। इस्लाम के 5 स्तंभों में से एक हज का समापन ईद अल-अजहा (Eid al-Adha) समारोह के साथ हुआ। यहां रविवार को 10,000 वैक्सीनेट किए गए मुस्लिम तीर्थयात्रियों ने मक्का में इस्लाम के सबसे पवित्र स्थल की परिक्रमा की। गौरतलब है कि कोरोना महामारी आने से पहले हर साल हज यात्रा के लिए दुनियाभर से करीब 25 लाख मुस्लिम मक्का की ओर रुख करते थे। लेकिन बीते साल सिर्फ एक हजार हज यात्रियों को ही अनुमति दी गई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here