नपा को समाज सेवा पड़ रही भारी,शहर के भीतर 90 फ़ीसदी सार्वजनिक नलों से व्यर्थ बह रहा पानी !

0

जल जीवन है इसे व्यर्थ ना बहाएं जितनी जरूरत है उतना खर्च करें ना जाने यह नारा नगर पालिका और जल संसाधन विभाग द्वारा बरसों बरस से लोगों को सुनाया जा रहा है। बावजूद इसके शहर के भीतर जल संरक्षण के लिए लोगों में जागरूकता का अभाव नगर पालिका के सरकारी नलो से बहते हुए पानी से पता चलता है।

दरअसल नगर पालिका की समाज सेवा नगर पालिका पर भारी पड़ रही है पुरानी और नई पाइप लाइन के माध्यम से शहर के भीतर 1194 सार्वजनिक नल नल तो लगाए गए हैं लेकिन नल में टूटी नहीं होने की वजह से 50 फ़ीसदी पानी बेकार में बह जाता है जो नपा के कुल जल प्रदाय का 25 फ़ीसदी तक बताया जा रहा है।

इन बहते हुए नल और नगरपालिका के साथ ही आम जनों द्वारा की जा रही अनदेखी पर पद्मेश न्यूज़ की टीम ने पड़ताल की तो हकीकत कुछ इस तरह सामने आ गई शहर के सभी 33 वार्डों के ऐसे स्थानों पर सरकारी नल लगाए गए हैं जहां पर पानी की बहुत अधिक जरूरत है लेकिन हर जगह पानी का उपयोग कम और दुरुपयोग अधिक हो रहा है।

यह बात हम उस समय कर रहे हैं जब बीते 2 वर्षों से भीषण गर्मी के दौरान नगर पालिका को शहर में जल प्रदाय करने के लिए जमकर पसीना बहाना पड़ा है यहां तक कि वैनगंगा की धारा को तक मोड़ना पड़ा लेकिन मजाल है नगरपालिका से लेकर शहर के लोगों की कि वे जागरूक हो जाएं। ऐसा नहीं है सार्वजनिक नल से पानी बहने की कहानी स्वयं स्थानीय जन भी अपने शब्दों में कुछ इस तरह बताते हैं।

नगर पालिका के नलो के आंकड़ों पर ध्यान दें बालाघाट नगर में पुरानी पाइप लाइन से 9870 घरेलू नल कनेक्शन है वही नई पाइप लाइन से 14000 नल कनेक्शन है जिनमें से 7000 नलों में मीटर लगाये गये है। वही नगर में 1194 सार्वजनिक नल लगाए गए हैं जिनमें से पानी व्यर्थ बहने वाले 8 नलों को नगर पालिका द्वारा बंद कर दिया गया। नगर पालिका के कर्मचारियों द्वारा बताया जा रहा है कि जितने भी सार्वजनिक नल है सभी में टोटी लगाई जाती है लेकिन दूसरे दिन ही टोटी की चोरी कर ली जाती है जिसके कारण पानी व्यर्थ बहने का सिलसिला बरकरार है।

नगर पालिका सीएमओ सतीश मटसेनिया ने बताया कि सार्वजनिक नलों से पानी बहता है इसको लेकर हमारे द्वारा दो बार प्रयास किया जा चुका है। जिन नलो में टोटियां नहीं लगी थी वहां सभी नलो में टोटिया लगाया गया। वहीं दूसरी बार जहां से पानी व्यर्थ बह रहा था उन नलो को पिघलाकर बंद कर दिया गया था, इसके बावजूद भी असामाजिक तत्वों द्वारा पाइपलाइन को काटकर नलो को ओपन किया गया।

जिससे पानी व्यर्थ बहता रहता है। हमारे द्वारा हाल ही में मुनादी करवाई गई है जो भी लोग नल कनेक्शन लेने से शेष रह गए हैं वे सभी जल्द नल कनेक्शन ले ले। नई पाइप लाइन से पानी सप्लाई प्रारंभ होने पर यह समस्या नहीं आएगी क्योंकि इस दौरान पानी सप्लाई की पूरी मॉनिटरिंग की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here