कोविड में मृत शिक्षकों के परिजनों को अनुकंपा नियुक्ति का इंतजार

0

कोरोना की दूसरी लहर में अन्य विभाग के साथ-साथ शिक्षा विभाग के बहुत से कर्मचारी और शिक्षक मौत की काल में समा गए। मध्यप्रदेश शासन की ओर से बड़े-बड़े दावे किए गए कि चंद रोज में मृतकों के आश्रितों को अनुकंपा नियुक्ति दे दी जाएगी, लेकिन नियम कायदे और किंतु परंतु सरकारी दस्तावेज में यह अनुकंपा नियुक्ति उलझ कर रह गई।

आपको बताएं कि कोविड-19 के दौरान जिले में कुल 90 शिक्षकों की मृत्यु हुई थी जिनमें से 52 शिक्षकों की मौत का कारण कोविड-19 संक्रमण था वह 38 ऐसे शिक्षक थे जिनकी कोविड-19 के दौरान सामान्य मृत्यु मानी गई थी।

अनुकंपा नियुक्ति प्रकरणों में अब तक शिक्षा विभाग 24 प्रकरणों का ही निराकरण करने में सफल हो पाया है जबकि 66 प्रकरण अब भी लंबित है। जिनमें से कोविड-19 के 34 और सामान्य मृत्यु के 32 प्रकरण पोर्टल में दर्ज है।

जिला शिक्षा अधिकारी एके उपाध्याय बताते है कि कोविड-19 के दौरान जिन शिक्षकों की मृत्यु हुई है उनके परिजनों को अनुकंपा नियुक्ति प्रदान किए जाने के सकारात्मक प्रयास किया जा रहा है।

शासन के मापदंडों के तहत ही यह नियुक्तियां होनी है उन्होंने कहा कि काफी ऐसे आवेदक हैं जिन्हें प्राथमिक शिक्षक पद दिया जाना है लेकिन उनके पास पात्रता परीक्षा डीएलएड बीएड नहीं होने कारण मामला लंबित है।

कुछ ऐसे आवेदक हैं जिन्होंने निर्धारित आयु पूर्ण नहीं की है जिस वजह से उन्हें अनुकंपा नियुक्ति नहीं दी जा सकी है। हालांकि भृत्य पद के लिए 2 आवेदक पात्र हैं जिनकी फाइल जिला प्रशासन को सौंप दी गई है और यह कार्यवाही जिला प्रशासन स्तर पर होना बाकी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here