लेह में लहराया खादी से बना दुनिया का सबसे बड़ा राष्ट्रीय ध्वज, वजन 1000 किलो

0

महात्मा गांधी 152वीं जयंती: इस साल 2 अक्टूबर को भारत के सबसे प्रिय और प्रेरक नेताओं में से एक महात्मा गांधी की 152वीं जयंती मनाई जा रही है। लाखों भारतीयों द्वारा प्यार से बापू कहे जाने वाले मोहनदास करमचंद गांधी का जन्म 2 अक्टूबर, 1869 को पोरबंदर, गुजरात में हुआ था। उनके समाधि स्थल राजधानी दिल्ली के राजघाट पर महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि दी जा रही है। राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, लोकसभा स्पीकर समेत तमाम नेता पहुंचे। यहां एक प्रार्थना सभा का आयोजन किया गया है। देश के विभिन्न हिस्सों में ऐसे आयोजन हो रहे हैं। वहीं एक आम भारतीय सोशल मीडिया के जरिए बापू को याद कर रहा है। यहां देखिए फोटो-वीडियो और सोशल मीडिया रिएक्शन्स

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट किया, राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को उनकी जन्म-जयंती पर विनम्र श्रद्धांजलि। पूज्य बापू का जीवन और आदर्श देश की हर पीढ़ी को कर्तव्य पथ पर चलने के लिए प्रेरित करता रहेगा।

लेह में शान से लहराया खादी से बना सबसे बड़ा तिरंगा

इस बीच, खादी से बने दुनिया के सबसे बड़े भारतीय राष्ट्रीय ध्वज का लद्दाख के लेह शहर में अनावरण किया गया। ध्वज का उद्घाटन लद्दाख के उपराज्यपाल आरके माथुर ने किया। इस मौके पर सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे भी मौजूद थे। खादी का यह राष्ट्रीय ध्वज 225 फीट लंबा और 150 फीट चौड़ा है। तिरंगे का वजन एक हजार किलो है। इसे भारतीय सेना की 57 इंजीनियर रेजीमेंट ने बनाया था।

वीडियो: पीएम मोदी ने राजघाट पहुंचकर बापू का श्रद्धा-सुमन अर्पित किए

Image
Image
Image

फोटो: कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने श्रद्धा सुमन अर्पित किए

Image

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here