खकराई गांव के बाद पिपलिया मंडी में भी 3 ने दम तोड़ा, प्रशासन ने की सिर्फ 4 मौतों की पुष्टि

0

मंदसौर में जहरीली शराब से हुई मौतों का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है। शराब से खकराई गांव के 3 लोगों की मौत के बाद, अब पिपलिया मंडी में भी 3 लोगों ने दम तोड़ दिया। इसके साथ ही पिपलिया क्षेत्र में ही तीन और परिवारों ने जहरीली शराब से 3 लोगों की बात कही है। कांग्रेस ने भी दावा किया है कि जहरीली शराब से 10 लोगों की मौत हो चुकी है। हालांकि, मंदसौर कलेक्टर मनोज पुष्प का कहना है कि पिपलिया मंडी में जहरीली शराब से सिर्फ 1 और खकराई गांव में 3 मौतों की पुष्टि की है। मंदसौर जिला अस्पताल में कुछ लोगों का इलाज चल रहा है।

रविवार को ही जहरीली शराब पीने से 3 लोगों की मौत हुई थी। इसके बाद मंदसौर स्थित सिद्धिविनायक अस्पताल में भर्ती बृजेश गुर्जर की उदयपुर ले जाते समय सोमवार शाम मौत हो गई, जबकि पिपलिया मंडी निवासी अनिल कैथवास की पिपलिया मंडी स्वास्थ्य केंद्र पर और गोपाल नायक की जिला अस्पताल में मंगलवार सुबह मौत हुई है। शराब पीने के बाद तबीयत बिगड़ने पर तीनों को अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती करवाया गया था। पिपलिया मंडी थाना क्षेत्र में ही गुड़भेली में 1 और सिंदपन गांव में 2 लोगों की मौत जहरीली शराब पीने से होने का दावा परिवार वाले कर रहे हैं।

खकराई के 3 लोगों की जान जा चुकी है
रविवार को जहरीली शराब पीने से मंदसौर जिले के खकराई गांव के 3 लोगों की मौत का मामला सामने आया था। गांव के घनश्याम बावरी, श्यामलाल मेघवाल, मनोहर लाल बागरी की मौत होने की पुष्टि प्रशासन ने की थी। आबकारी मंत्री जगदीश देवड़ा के विधानसभा क्षेत्र से मामला जुड़ा होने की वजह से आनन-फानन में आबकारी निरीक्षक, थाना प्रभारी और बीट प्रभारी को सस्पेंड कर दिया। खकराई गांव में अवैध शराब बेचने वाले पिंटू उर्फ योगेंद्र के मकान को रातों रात प्रशासन ने जमींदोज कर दिया था। इस मामले में कांग्रेस ने भी प्रशासन पर मौत के आंकड़े दबाने का आरोप लगाया है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here